जांच के नाम पर भाजपा जिलाध्यक्ष को बचा रहा आज़मगढ़ प्रशासन- राजीव यादव पांच दिन बीत गए भाजपा जिलाध्यक्ष लालगंज ऋषिकांत राय पर नहीं दर्ज हुआ मुकदमा

निज़ामाबाद/आज़मगढ़ 29 सितंबर 2022. रिहाई मंच महासचिव राजीव यादव ने निज़ामाबाद में प्रशासनिक अधिकारियों के साथ भाजपा जिलाध्यक्ष लालगंज ऋषिकांत राय पर मारपीट के आरोप के बाद जिलाधिकारी द्वारा एडीएम प्रशासन व एएसपी सिटी द्वारा की जा रही जांच पर सवाल उठाया.तहसील के अधिकारियों-कर्मचारियों के बयान दर्ज होने के बाद भी भाजपा जिलाध्यक्ष लालगंज ऋषिकांत राय का बयान दर्ज न होने पर राजीव यादव ने कहा कि जांच अधिकारी एडीएम प्रशासन व एएसपी सिटी आखिर क्यों नर्मी दिखा रहे. पांच दिन बीत जाने के बाद एडीएम प्रशासन कह रहे हैं कि भाजपा जिलाध्यक्ष का बयान दर्ज हो जाए तो जांच पूरी कर जिलाधिकारी को आख्या प्रस्तुत करेंगे. वहीं दूसरी तरफ भाजपा जिलाध्यक्ष लालगंज ऋषिकांत राय अब तक बयान के लिए नहीं पहुंचे. जब तक बयान दर्ज नहीं तबतक कार्रवाई नहीं करके भाजपा जिलाध्यक्ष लालगंज ऋषिकांत राय को बचाने की साजिश चल रही है. अगर भाजपा जिलाध्यक्ष बयान नहीं दर्ज करवा रहे इसका मतलब वे अपने को निर्दोष नहीं मान रहे और सत्ता के गुरुर में इस जांच को दरकिनार कर रहे. राजीव यादव ने कहा कि जिलाधिकारी आखिर इतने अक्षम क्यों हैं. उनके ही अधिकारी को मारा-पीटा जा रहा और पांच दिन से जांच चल रही कि दोषी कौन. अगर एक आम इंसान का मामला होता तो बिना नोटिस के अब तक बुलडोजर दहाड़ता. कहां गया योगी की जीरो टॉलरेंस नीति क्या हुआ कानून व्यवस्था के राज का. आरोपी भाजपाई है इसलिए कानून नतमस्तक हो गया ये न्याय व्यवस्था का दुर्भाग्य है.


द्वारा-

राजीव यादव

महासचिव, रिहाई मंच

9452800752

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उज़मा रशीद को अपना बेशकीमती वोट देकर भारी बहुमत से विजई बनाएं

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश