डॉक्टर अरशद मंसूरी ने मंसूरी समाज के लोगों को अपनी कविता के माध्यम से एक संदेश दिया है।

 


*मंसूरी* होकर *मंसूरी* का, 

          आप सभी सम्मान करो! 

सभी  *मंसूरी* एक हमारे, 

         मत उसका नुकसान करो! 

चाहे *मंसूरी* कोई भी हो, 

         मत उसका अपमान करो! 

जो ग़रीब हो, अपना *मंसूरी* 

          रोजगार देकर धनवान करो! 

हो गरीब *मंसूरी* की बेटी, 

          मिलकर *कन्या दान* करो!

अगर लड़े चुनाव *मंसूरी* ,

        शत प्रतिशत *मतदान* करो!

हो बीमार कोई भी *मंसूरी* , 

         उसका दिल से सहयोग करो!

बिन घर के कोई मिले *मंसूरी* , 

         उसका खड़ा मकान करो! 

अगर *मंसूरी* दिखे भूखा, 

        भोजन का इंतजाम करो! 

अगर *मंसूरी* की हो अटकी फाईल, 

         शीघ्र काम श्रीमान करो! 

  *मंसूरी* की लटकी हो राशि, 

        शीघ्र आप भुगतान करो! 

 *मंसूरी* को अगर कोई सताये, 

       उसकी आप पहचान करो! 

अगर जरूरत हो *मंसूरी*  को, 

        घर जाकर श्रमदान करो! 

अगर मुसीबत में हो *मंसूरी* , 

       फौरन मदद का काम करो! 

अगर *मंसूरी* दिखे वस्त्र बिन, 

      उसे अंग वस्त्र का दान करो! 

अगर *मंसूरी* दिखे उदास, 

         खुश करने का काम करो! 

अगर *मंसूरी* घर पर आये,

          तो उसका सम्मान करो! 

हो गरीब *मंसूरी* का बेटा, 

         उसकी मदद तमाम करो! 

बेटा हो गरीब *मंसूरी* का पढ़ता, 

          कापी पुस्तक दान करो!


 लेखक समाजसेवी डॉक्टर अरशद मंसूरी फर्रुखाबाद उत्तर प्रदेश

मोबाइल-7905569021

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत

पीलीभीत सदर तहसील में दस्तावेज लेखक की गैर मौजूदगी में उसका सामान फेंका, इस गुंडागर्दी के खिलाफ न्याय के लिए कातिब थाना कोतवाली पहुंचा*