फिल्मी दुनिया से लेकर विदेशों तक में सुर्मा का नाम आते ही बरेली के सुर्मा कारोबारी एम हसीन हाशमी का नाम आता है।

बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए बरेली से मुस्तकीम मसूरी की रिपोर्ट।

एम हसन हाशमी ब्रांड बनाने की कहानी भी बड़ी दिलचस्प है, जैसे कि दूसरे दुनिया के दूसरे मशहूर उत्पादों की है। नदीम शमशी

बरेली, मशीन हाशमी के रूप में सुरमा जगत ने एक बड़ी हस्ती को खो दिया है जिनका नाम

फिल्मी दुनिया से लेकर विदेशों तक में सुरमा का नाम आते ही बरेली के सुरमा कारोबारी एम हसीन हाशमी का नाम आ जाता है। शुक्रवार को एम हसीन हाशमी का इंतकाल हो गया है। इंतकाल की सूचना मिलते ही उनके चाहने वालों को सदमा लगा है। हसीन हाश्मी के रूप में सुरमा जगत ने एक बड़ी हस्ती खो दी है। एम हसीन हाश्मी सुरमा, जो गांव-देहात कस्बों और रेलवे स्टेशनों पर आसानी से मिल जाता है। उस देश के कोने-कोने में पहुंचाने में हसीन हाश्मी की जी-तोड़ मेहनत का ही नतीजा है। झुमके के बाद बरेली सुरमा के लिए मशहूर है।


सुरमे की पहचान दिलाने में हसीन हाशमी का ही योगदान है। कम से कम दो पीढ़ियों की आंखों में उनके सुरमे की ठंडक पहुंचती रही है। एम हसीन हाशमी के पड़ौसी नदीम शमसी ने बताया कि एम हसीन हाशमी ब्रांड बनने की कहानी भी बड़ी दिलचस्प है। जैसे कि दूसरे दुनिया के दूसरे बड़े मशहूर उत्पादों की है। एक छोटी सी दुकान से शुरू ये सफर देश के मशहूर ब्रांड तक जा पहुंचा। पिछले काफी समय से उनकी तबीयत थोड़ी नासाज़ चल रही थी। शुक्रवार को हालत ज्यादा बिगड़ गई और वह दुनिया को अलविदा कह गए।  हसीन हाशमी के रूप में सुरमा जगत ने एक बड़ी हस्ती खो दी है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत