🌿🌿🌿 *19 खरब 50 अरब 40 करोड़ का सालाना व्यापार बस हम सब को बीमार बनाने के लिऐ हो रहा है। नहीं विश्वास हो रहा ना तो ये लेख ध्यान से पढ़णा:-*

बौद्धिक लड़ाई ना एक दिन में लड़ी जाती और ना जीती जाती, इस के लिए तो सैकड़ों साल लगते हैं और पीढियाँ की पीढियाँ खप जाती हैं। एक बौद्धिक लड़ाई है जैविक कृषि बनाम रसायनिक कृषि और अंत में विजय जैविक खेती की ही होनी है कंपनियां चाहे जो मर्जी कर लें।


बुद्धि का विकास शिक्षा से ही होता है और वो शिक्षा ही गलत दे दी जाए तो कोई कहाँ जा कर रोए। 

आप सभी गेहूँ व चावल तो खाते ही होंगे। आज इन दो फसलों के बारे में ही बात करुंगा। जब देश में कृषि विश्व विद्यालय नहीं थे तो जैविक कृषि ही होती थी, जब देश में वन विभाग नहीं थे तो जंगलों में अनेक प्रकार के देशी पेड़ पौधे थे, जब देश में पशुपालन विभाग नहीं था तो उत्तम नश्ल के बैल, घोड़े, गधे, गाय, अन्य पशु व मोर, कबुतर, हंस, बुगले व अन्य विभिन्न प्रकार के पक्षी थे।

खैर आज बस गेहूँ और चावल। गेहुं का बीज आज हमें बाजार में मिलता है, उस पर अंग्रेजी भाषा में साफ साफ लिखा होता है कि यह गेहूँ खाने योग्य नहीं है, इस पर जहर की परत चढ़ाई गयी है। यह जहर युक्त गेहूँ का बीज किसान को करीब 1000/- ₹ में 50 किलो प्रति एकड़ बोने के लिए दिया जाता है। फिर बुआई के समय सुपर फास्फेट नामक जहर की 50 किलो की बोरी करीब 400/- ₹ कि थमा दी जाती है। गेहूँ के अंकुरित होते ही यूरिया की एक बोरी 350/- ₹ की तथा दूसरी सिंचाई के वक्त एक बोरी यूरिया और डालवा दी जाती है। 500 से 1000/- ₹ के खरपतवार व कीटनाशक डलवाया जाता है। जब गेहूँ पक जाता है तो सल्फास नामक जहर उस को सुरक्षित रखने के नाम पर डलवाया जाता है। कहने का मतलब है की किसान को पूरी तरह ठग कर उस को जहर युक्त बीज देने से लेकर गेहूँ को सुरक्षित रखने के उपाय तक कंपनी किसान से करीब तीन हजार रुपए प्रति एकड़ का जहर बेच जाती है।

अब चावल की बात करते हैं। चावल की 10 किलो की जहर से उपचारित पंजीरी प्रति एकड़ 400 से 500/- ₹ किसान को दी जाती है। पौध रोपण के साथ ही 3000/- ₹ की तीन बोरी डीएपी की डलवाई जाती हैं। बाद में एक बोरी यूरिया, एक से दो 500/- ₹ के खरपतवार नाशी जहर तथा तीन 1500/- ₹ के कीटनाशक जहर के छिडकाव करवाए जाते हैं। चावल कि फसल में भी कंपनी  करीब 6000/- ₹ के जहर प्रति एकड़ डलवाने में सफल हो जाती है।

 सिर्फ गेहूँ व चावल में जहर डलवाने के नाम पर कंपनी 9000/- ₹ प्रति एकड़ का सामान बेच जाती है।

भारत में 3946 लाख एकड़ कृषि भूमी है जिसमे से 2156 लाख सिंचित भूमी पर गेहूँ व चावल कि खेती होती है। 215600000 x 9000 = 1950400000000/- ₹ प्रति वर्ष किसान को बेवकूफ बनाकर आप को जहर युक्त खाना कंपनी तैयार करवाती हैं ताकि आप बीमार हों अगर आप बीमार नहीं हुए तो अंग्रेजी दवाई कैसे बिकेंगी?????

*कितने किसान स्त्री पुरूष यह कीटनाशक, खरपतवार नाशक व सल्फास पी खा कर मरे हैं इस का आकडा आप को कहीं नहीं मिलेगा क्यों कि ज्यादातर परिवार इस की जानकारी थानों में नहीं देते।*

*अंत में अपने शहरी मित्रो से अपील करना चाहूंगा कि फैमिली डॉक्टर के साथ साथ एक फैमिली फार्मर भी रख लो। जैसा खाए अन्न वैसा होगा मन।*

नोटः- 19 खरब 50 अरब 40 करोड़ ₹ तो सालाना गेहूँ व चावल को खराब करने के लिए खर्च किया जाता है। बाकी अन्न, फल व सब्जियों को खराब करने वाले पैसे की आप कल्पना कर सकते हैं।

ये तो मात्र 30% है । अन्य फसलों में 70% कैमिकल फर्टिलाइजर इस्तेमाल होते हैं तो अंदाजा लगा सकते हैं कि कितना जहर हम खा रहे है।

 🌿🌿 

Ghayas Uddin Hashmi Adv

Swadeshi Ratan

Sab k sukh me swayam ka sukh

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बरेली के बहेड़ी थाने में लेडी कांस्‍टेबल के चक्‍कर में पुलिस वालों में चलीं गोलियां, थानेदार समेत पांच पर गिरी गाज

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

लोनी नगर पालिका परिषद लोनी का विस्तार कर 11 गांव और उनकी कॉलोनियों को शामिल कर किया गया