जब दिल्ली में शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने की आजादी नहीं, तो यूपी में क्या हाल होगा

उत्तर प्रदेश में पुलिसिया अत्याचार के विरुद्ध यूपी भवन के बाहर शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे छात्र-छात्राओ को पुलिस ने सड़कों पर घसीटा और सेकड़ो प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार हुए कुछ छात्रों का आरोप है कि वह प्रदर्शन का हिस्सा नहीं थे, पुलिस ने उनको ऑटो में से उतार कर जबरदस्ती किडनैप किया है।


वह ऑटो में जा रहे थे पुलिस वालों ने उनका ऑटो रुकवाया और जबरन बस में बैठाकर थाने ले आए।


छात्राओं ने पुरुष पुलिस वालों पर छेड़खानी का भी आरोप लगाया है। उनके अनुसार बस में पुरुष पुलिसकर्मी द्वारा छात्राओं को छेड़ा गया है।


यूपी से ख़बरें आ रही हैं नागरिकता कानून का विरोध करने वालों पर योगी की पुलिस जमकर गोलियां चला रही है जिसके कारण अब तक यूपी में लगभग 20 लोगों की जान जा चुकी है और सैंकड़ो लोगों को नुकसान की भरपाई के लिए लाखों रूपए के नोटिस भेजे गए है। जिसके विरोध में पिछले चार-पाँच दिनों से दिल्ली में यूपी भवन के सामने दिल्ली विश्वविद्यालय,जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय और जामिया के छात्र बड़ी संख्या में विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।


देश की राजधानी दिल्ली में जब पुलिस शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने वाले छात्रों के साथ ऐसा बर्ताव कर रही है तो यूपी में योगी की पुलिस कैसा बर्ताव करती होगी, ये इसी बात से पता लगाया जा सकता।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत