डॉ. कन्हैया कुमार ने की न्याय की स्थापना के लिए चुनाव मुहीम में सहयोग देने की अपील

-युमुना विहार में कार्यकर्ता बैठक में शामिल हुए सचिन पायलट व देवेंद्र यादव

-घोंडा इलाके में पदयात्रा से शुरू हुआ प्रचार

नई दिल्ली, 15 मई 2024 – उत्तर पूर्वी दिल्ली से कांग्रेस और इंडिया गठबंधन के उम्मीदवार डॉ. कन्हैया कुमार ने बुधवार को घोंडा इलाके में पदायात्रा की। इस दौरान उन्होंने स्थानीय जनता से न्याय की स्थापना के लिए चुनाव मुहीम में सहयोग देने की अपील की। इसके साथ ही उत्तर पूर्वी दिल्ली लोकसभा क्षेत्र के


सभी विधानसभाओं के ऑब्ज़र्वर सहित कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से लोकसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर यमुना विहार में विस्तृत चर्चा की। इस दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री सचिन पायलट, दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष व पंजाब प्रभारी श्री देवेंद्र यादव, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार सहित अन्य नेता शामिल हुए।

घोंडा में पदयात्रा को संबोधित करते हुए डॉ. कन्हैया कुमार ने कहा, ''मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि आपके आशीर्वाद से अन्याय को जड़ से उखाड़ फेंकूंगा और न्याय की स्थापना के लिए प्रतिबद्ध रहूंगा। कर्मठ व समर्पित कार्यकर्ताओं की


एकजुटता बता रही है कि लोकतंत्र और संविधान को बचाने की इस लड़ाई में जीत न्याय की होगी। यह चुनाव देश की प्रभुता और देश के संविधान के संरक्षण का चुनाव है। यह चुनाव में हर व्यक्ति बुलंदी से बोल सके, उसका चुनाव है। इस देश में पिछले में 10 वर्षों से एजेंसियों की विश्वसनीयता और पारदर्शिता पर जो प्रहार हो रहा है, उसे रोकने का चुनाव है। 

वहीं यमुना विहार में कार्यकर्ता बैठक को संबोधित करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री सचिन पायलट ने कहा कि राहुल जी, मल्लिकार्जुन खरगे जी ने और हम सबने मिलकर कन्हैया कुमार को उम्मीदवार बनाया है। यह हम सब की जिम्मेवारी है कि पूरी निष्ठा के साथ सभी कार्यकर्ता एकजुट होकर का करें और उत्तर पूर्वी दिल्ली से कांग्रेस उम्मीदवार को जीत दिलाएं।''

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

विधायक अताउर्रहमान के भाई नसीम उर्रहमान हज सफर पर रवाना

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र