ऑल इंडिया आइडिल टीचर्स एसोसिएशन आईटा की संगोष्ठी में जुटे बड़ी संख्या में शिक्षक,

 रिपोर्ट -मुस्तकीम मंसूरी

बरेली, शिक्षकों के प्रमुख संगठन ऑल इंडिया आइडियल टीचर्स एसोसिएशन बरेली यूनिट ने इस्लामिया गर्ल्स इंटर कॉलेज में नई शिक्षा नीति पर एक संगोष्ठी आयोजित की, ऑल इंडिया आइडियल टीचर्स एसोसिएशन आईटा की ओर से 24 सितंबर 2023 से 15 अक्टूबर 2023 तक ज्ञानवर्धक अध्यापक, प्रतिभाओं का पोषण, परिवर्तनकारी समाज के विषय पर एक राष्ट्रव्यापी अभियान चलाया जा रहा है।


इस केंद्रीय विषय के अंतर्गत आईटा शिक्षकों में अपनी गरिमा, महानता की भावना में वृद्धि तथा समाज में शिक्षकों की वर्तमान स्थिति एवं प्रतिष्ठा की भावनाओं को विकसित करने के लिए प्रयासरत है। शिक्षक जागरूकता एवं छात्र विकास के संबंध में संपूर्ण शैक्षिक समुदाय का ध्यान आकर्षित करना चाहती है। कि वह परिवर्तनकारी समाज एवं क्रांति का मार्ग प्रशस्त करने के लिए संकल्पित हो, इस संबंध में आईटा के यूपी अध्यक्ष शकील अहमद ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि आईटा शिक्षकों का एक राष्ट्रव्यापी पंजीकृत संगठन है जिसकी स्थापना सन 1992 में हुई।

अपनी नीतियों और कार्यक्रमों के साथ यह देश के करीब 19 राज्यों में विभिन्न शैक्षिक गतिविधियां सफलतापूर्वक अंजाम दे रही है। उक्त शैक्षिक अभियान की इसी कड़ी है, आईटा शिक्षकों को वैचारिक परिपक्वता, शिक्षण कौशल में निपुणता और अपने पेशेवर व्यक्तित्व में विकास करवाने के साथ ही उनके जायज अधिकारों के प्रति निरंतर संघर्षरत है। हजारों शिक्षकों पर आधारित यह संगठन शिक्षा के बदलते परिदृश्य के बीच अपनी शैक्षिक सेवाएं प्रदान कर रही है। और समाज में सकारात्मक बदलाव में अपना अमूल्य योगदान दे रही है। आईटा न केवल शिक्षकों के जायज अधिकारों की बात करता है, अपितु उन्हें अपने दायित्वों के निर्वहन के प्रति सचेत भी करता है।

राष्ट्रीय शैक्षिक बोर्ड के अध्यक्ष सैयद तनवीर अहमद ने नई शिक्षा नीति के बारे में अहम जानकारी दी, उन्होंने नई शिक्षा नीति से भरपूर फायदा उठाने की अपील की।

आईटा के सोशल मीडिया प्रभारी इरफान अली ने बताया कि हमारे सदस्य केंद्रीय प्रदेश जिला और स्थानीय स्तर पर शैक्षिक गतिविधियों के द्वारा शिक्षकों को वैचारिक परिपक्वता कौशल में निपुणता और अपने पेशे में दक्षता हासिल करने के लिए सेमिनार सिंपोजियम व्याख्यान शैक्षिक उत्सव और विभिन्न विषयों पर कार्य शालाओं जैसी अहम गतिविधियों का आयोजन करती है। उपरोक्त केंद्रीय विषय के तहत राष्ट्रीय शैक्षिक अभियान भी इसी की एक श्रृंखला है। जिसके तहत हमारा प्रयास है कि हम बदलते शैक्षिक आवश्यकताओं से शिक्षकों को अवगत करायें तथा पैनी नजर रखें साथ ही शिक्षक व छात्रों के बीच शिक्षा के आधुनिक तरीकों को लागू करें ताकि छात्रों में अपनी शैक्षिक प्रगति के साथ-साथ उच्च नैतिक मूल्यों का विकास हो सके। अभियान के सोशल मीडिया प्रभारी इरफान अली ने अभियान के बारे में बताया कि इसी संदर्भ में बरेली के इस्लामिया गर्ल्स इंटर कॉलेज में इस संगोष्ठी का आयोजन किया गया है।


इसमें सैयद तनवीर अहमद के अलावा मौलाना अतीक  इस्लाही तालीमी सेक्रेटरी जेआईएच यूपी बेस्ट, रामपुर के सलमान असद डायरेक्टर जमिया सआलिहात ने मुसलमानों की शिक्षा के बारे में अपने विचार व्यक्त किये। सलमान असद ने बताया कि शैक्षिक संस्थानों के प्रबंधकों को यह याद दिलाना है कि वह अपने संस्थानों के अंदर ऐसा माहौल तैयार करें जहां आधुनिक शिक्षा प्राप्त तकनीक के दक्ष और उच्च नैतिक गुणों से लैस छात्र तैयार हो सके। इस अवसर पर पैगाम ए इंसानियत के अध्यक्ष अहमद अजीज खान ने इस तरह के प्रोग्राम को समाज की तालीमी तरक्की के लिए जरूरी करार दिया। उन्होंने टीचर्स के साथ छात्रों एवं अभिभावकों  से नई शिक्षा नीति से भरपूर फायदा उठाने की अपील की इस अवसर पर आईटा बरेली यूनिट के सेक्रेटरी जीशान अहमद, इस्लामिया गर्ल्स की प्रिंसिपल चमन आरा, ज़ैनब फातिमा, नाजिम मलिक, ओवैस अहमद, इमरान, जुनैद एवं मुहीम के को-कन्वीनर हाफ़िज़ कदीर अहमद सहित आईटा के अन्य सदस्य मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उज़मा रशीद को अपना बेशकीमती वोट देकर भारी बहुमत से विजई बनाएं

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश