एसडीएम सगड़ी पहुंचे खिरिया बाग धरना समाप्त करने को कहा, किसानों मजदूरों ने साफ कहा की लिखित शासनादेश के बगैर धरना समाप्त नहीं होगा

 खिरिया बाग में महाड़ आंदोलन को किया गया याद

23 मार्च को भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु का शहादत दिवस और डा0 राम मनोहर लोहिया की जयंती मनाई जाएगी

खिरिया बाग आजमगढ़ 20 मार्च 2023. खिरिया बाग में 159 वें दिन चल रहे धरने के दौरान एसडीएम सगड़ी पुलिस फोर्स के साथ पंहुचे. एसडीएम सगड़ी ने आंदोलनरत किसानों से धरना समाप्त करने को कहा. सीओ और कंधरापुर थानाध्यक्ष भी मौजूद रहे.




आंदोलनरत किसानों मजदूरों ने कहा की उन्हें लिखित शासनादेश दिया जाए की अंतराष्ट्रीय एयरपोर्ट के नाम पर हवाई पट्टी विस्तारीकरण की परियोजना रद्द की जा रही है. प्रशासन स्थगित करने की जो बात कर रहा है वह भी मौखिक है, कागजी दस्तावेजों में लगातार कहा जा रहा है की भूमि अधिग्रहण किया जाएगा. जब शासन की मंशा अनुरूप सर्वे किया गया तो यह लिखकर देने में क्या दिक्कत है की उस सर्वे को रद्द किया जाएगा और एयरपोर्ट का विस्तारीकरण नहीं किया जाएगा. एसडीएम ने गांव में विकास कार्यों की पुनर्बहाली की बात कही तो आंदोलनकारियों ने कहा की गांव को बेहतर करने की परियोजनाओं को किसने रोका था. यह स्पष्ट करता है की शासन की यहां एयरपोर्ट बनाने की मंशा रही है. किसानों ने कहा की जब आप पिछली बार कहे थे की एयरपोर्ट का विस्तारीकरण रद्द कर दिया गया है तो उसे लिखित में देने में क्या दिक्कत है.

20 मार्च 1927 को बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर के महाड़ आंदोलन को याद करते हुए वक्ताओं ने कहा की उस दौर में पानी से वंचित किया जा रहा था और आज जमीन से वंचित करने की कोशिश की जा रही है. 

धरने में शामिल रामनयन यादव, राजीव यादव, दुख हरन राम, राम कुमार, निशांत राज, नीलम, कुटबी, किस्मती ने एसडीएम के समक्ष अपनी बातों को रखा.


द्वारा

रामनयन यादव

अध्यक्ष,जमीन-मकान बचाओ संयुक्त मोर्चा,आजमगढ़।

मो.नं.9935503059

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

विधायक अताउर्रहमान के भाई नसीम उर्रहमान हज सफर पर रवाना

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र