पीलीभीत जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा जिला कारागार का किया औचक निरीक्षण।

बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए पीलीभीत से शाहिद खान की रिपोर्ट l

जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार एवं पुलिस अधीक्षक  अतुल शर्मा द्वारा आज जिला कारागार का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी द्वारा कारागार में स्थित अस्पताल, भोजनालय, बैरक 03,04,05,06,07 08, 09, किशोर बैरक व महिला बैराक का जायजा लिया गया।


महिला बैरक के निरीक्षण के दौरान महिला कैदियों से बातचीत कर उनकी समस्याओं को जाना। बैरकों के निरीक्षण के दौरान कैदियों से बातचीत करते हुये उनकी समस्याओं का संज्ञान लेते हुये सम्बन्धित अधिकारियों को त्वरित निस्तारण करने हेतु निर्देशित किया। जिलाधिकारी द्वारा जेलर को निर्देश दिये कि जो बन्दी बुर्जुग हैं उनका नाम दया याचिका में दर्ज कर भेजने के निर्देश दिये। निरीक्षण के दौरान कैदियों तैयार किये जा रहे बैगों को देखा और उनसे प्रतिदिन तैयार किये गये बैगों की संख्या व प्रति बैग आपको कितने रूपये दिये जा रहें आदि के सम्बन्ध में जानकारी ली। 

जिलाधिकारी द्वारा अस्पताल निरीक्षण के दौरान बीमार कैदियों से बातचीत करते हुये उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली गई और वहां उपस्थित डाॅक्टर को कडे निर्देश देते हुए कहा कि बीमार कैदियों की स्वास्थ्य सुविधाओं में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाये। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी द्वारा जेल अधीक्षक को निर्देशित किया गया कि मानक के अनुरूप कैदियों को समस्त सुविधायें उपलब्ध कराई जाये।


जिलाधिकारी द्वारा भोजनालय निरीक्षण के दौरान भोजन की गुणवत्ता परखी गई और साफ सफाई की व्यवस्था देखी गई और निर्देशित किया गया कि निर्धारित मानकों के अनुरूप कैदियों को भोजन उपलब्ध कराना सुनिश्चित किया जाये। जिलाधिकारी द्वारा जेल में इंगलिश रूम का भी निरीक्षण किया। इसके साथ ही साथ साफ सफाई पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिये।  

निरीक्षण के दौरान जेलर, सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

विधायक अताउर्रहमान के भाई नसीम उर्रहमान हज सफर पर रवाना

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र