बसपा सुप्रीमो पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री मायावती के 67 वें जन्मदिवस पर मान्यवर काशीराम जी के सपने को साकार करने के लिए बसपा में घर वापसी की कद्दावर मुस्लिम नेता तौफीक प्रधान ने|

बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए बरेली से अकरम मियां की रिपोर्ट, 

मुस्लिमों के कद्दावर नेता तौफीक प्रधान के बसपा में शामिल होने से असदुद्दीन ओवैसी को लगा बड़ा झटका|

बरेली,बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री मायावती जी का 67 वां जन्मदिवस  बहुजन समाज पार्टी के मंडल कार्यालय तुलसी नगर बरेली में जनकल्याण दिवस के रूप में मनाया गया इस अवसर पर एम आई एम के कद्दावर नेता 123 बिथरी चैनपुर विधानसभा के पूर्व प्रत्याशी तौफीक प्रधान ने अपने हजारों समर्थकों के साथ बहुजन समाज पार्टी में शामिल होकर बसपा सुप्रीमो पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री मायावती जी के 67 वें जन्मदिवस के अवसर पर जिले की राजनीति के समीकरण ही बदल दिए,

आपको बताते चलें की तौफीक प्रधान ने अपना राजनीतिक सफर बहुजन समाज पार्टी के संस्थापक मान्यवर कांशीराम जी के विचारों और उनकी नीतियों से प्रभावित होकर वर्ष 1990 में बसपा की सदस्यता लेकर एक कार्यकर्ता की शक्ल में फरीदपुर विधानसभा क्षेत्र के ग्राम स्तर से शुरू किया था, लगातार मान्यवर कांशीराम जी और बसपा सुप्रीमो सुश्री मायावती जी

की नीतियों को जन जन तक पहुंचा कर मुस्लिम समाज के लोगों को बसपा से जोड़ने का काम लगातार करते रहे, बसपा का बरेली में जनाधार बढ़ाने में तौफीक प्रधान की भूमिका काफी महत्वपूर्ण मानी जाती रही है, लगातार बसपा में दलित मुस्लिम समीकरण पर काम करते करते हैं तौफीक प्रधान का

क़द जिला ही नहीं बरेली मंडल में बड़े मुस्लिम नेताओं में शुमार होने लगा था, इधर जिला पंचायत चुनाव के बाद पार्टी में अपनी उपेक्षा से नाराज तौफीक प्रधान का संपर्क एम आई एम सुप्रीमो सांसद बैरिस्टर असदुद्दीन ओवैसी से एक कार्यक्रम में हुआ जहां पर ओवैसी से मुलाकात के बाद तौफीक प्रधान को लगा की असदुद्दीन ओवैसी का मिशन भी मान्यवर कांशीराम जी के मिशन की तरह है, क्योंकि मान्यवर काशीराम जी जिस तरह बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी के संविधान में

आस्था रखते हुए बहुजन समाज को सत्ता का असली वारिस मानते हुए, जिसकी जितनी संख्या भारी, उसकी उतनी हिस्सेदारी की बात करते थे उसी तरह की ओवेसी द्वारा की गई बातों से प्रभावित होकर तौफीक प्रधान एम आई एम में शामिल तो हो गए, परंतु जीवन के 30 साल बसपा में गुजार कर मन में बसे बसपा प्रेम और मान्यवर कांशीराम जी व बसपा सुप्रीमो सुश्री मायावती जी को देश का प्रधानमंत्री बनाए जाने के सपने को दिल से नहीं निकाल सके, यही कारण है कि एक बार फिर तौफीक प्रधान ने बसपा सुप्रीमो पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री मायावती जी के 67 वें जन्मदिन पर बसपा में शामिल होकर घर वापसी की, वहीं बसपा नेताओं ने भी तौफीक प्रधान की घर वापसी का जोरदार स्वागत फूल मालाएं पहनाकर करते हुए मुस्लिम समाज में कद्दावर नेताओं में गिने जाने वाले तौफीक प्रधान को बसपा की सदस्यता ग्रहण करा कर उनकी घर वापसी का स्वागत किया, बसपा सुप्रीमो पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री मायावती के 67 वें जन्म दिवस के अवसर पर मुख्य अतिथि सूरज सिंह

जाटव अलीगढ़ बरेली मंडल के मुख्य सेक्टर प्रभारी ने सदस्यता ग्रहण कराई इस अवसर पर ब्रह्म स्वरूप सागर बसपा जिलाध्यक्ष डॉक्टर जयपाल सिंह सहित बसपा के समस्त पदाधिकारियों की उपस्थिति में तौफीक प्रधान ने बसपा  सुप्रीमो पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री मायावती जी के सपनों को साकार
करने का संकल्प लिया, इस अवसर पर बहन कुमारी मायावती जी के 67 वें जन्म दिवस को जनकल्याण दिवस के रूप में मनाते हुए हजारों गरीबों को कंबल एवं मिष्ठान वितरण किया गया, कार्यक्रम समापन के बाद बसपा नेता तौफीक प्रधान ने पत्रकारों को बताया

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उज़मा रशीद को अपना बेशकीमती वोट देकर भारी बहुमत से विजई बनाएं

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश