रामपुर और आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव में समाजवादी पार्टी को मिली हार का आखिर कौन है जिम्मेदार, आज़म या अखिलेश?

 बेताब समाचार एक्सप्रेस बरेली से मुस्तकीम मंसूरी की रिपोर्ट, 

रामपुर और आजमगढ़ चुनाव के नतीजे से साफ़ ज़ाहिर होता है, कि सपा में भाजपा को हराने की न तो काबिलियत है, और ना ही कु़व्वत| मुजम्मिल रजा़, 

बरेली, ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के जिलाध्यक्ष मुजम्मिल रजा़ खांन ने रामपुर और आजमगढ़ के उपचुनाव के नतीजों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा रामपुर और आजमगढ़ के उपचुनाव में एम आई एम चुनाव नहीं लड़ी, फिर भी दोनों जगह पर भाजपा के प्रत्याशियों ने चुनाव में जीत हासिल करके सपा प्रत्याशियों को शिकस्त दी| मुजम्मिल रजा़ खांन ने कहा आजमगढ़ लोकसभा क्षेत्र जहां पर यादव वोटो की तादाद अधिक होने के बावजूद पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव को हार का मुंह देखना पड़ा


, इससे साफ जाहिर है की आजमगढ़ के यादवों ने भाजपा के पक्ष में मतदान करके एक बार फिर अखिलेश यादव को नेता मानने से इनकार कर दिया| वही रामपुर में सपा की हार के लिए गुस्ताख ए रसूल नूपुर शर्मा पर अखिलेश की खामोशी का बदला रामपुर की आवा़म ने सपा प्रत्याशी को हराकर और आज़म खांन के क़द को घटाकर ले लिया| मुज़म्मिल रजा़ खांन ने कहा गुस्ताख ए रसूल नूपुर शर्मा के मामले में अखिलेश यादव की चुप्पी और उनके विधायकों की खामोशी को लेकर उत्तर प्रदेश का मुसलमान गुस्से में है, जिसका बदला आजमगढ़ और रामपुर के उपचुनाव में उसने सपा के पक्ष में वोट डालने से बेहतर घर बैठना समझा, जिसका परिणाम मतदान प्रतिशत का कम होना इस बात का इशारा करता है| की उत्तर प्रदेश का मुसलमान अखिलेश यादव के साथ पार्टी से जीतने वाले ऐसे विधायकों से भी नाराज़ है और उसने अपनी नाराज़गी का बदला आजमगढ़ और रामपुर उपचुनाव में दिखा दिया| एम आई एम जिलाध्यक्ष मुज़म्मिल रजा़ खांन ने कहा 2022 के विधानसभा चुनाव में सपा की हार का कारण जो लोग एम आई एम को बता रहे थे| अब वो लोग जवाब दें एम आई एम ना तो रामपुर में चुनाव लड़ी और ना ही आजमगढ़ से चुनाव लड़ी फिर समाजवादी पार्टी दोनों जगह चुनाव हारी आखिर क्यों? एम आई एम जिलाध्यक्ष  मुज़म्मिल रजा़ खांन ने कहा रामपुर और आजमगढ़ चुनाव के नतीजे से साफ जाहिर होता है कि सपा में भाजपा को हराने क की ना तो काबिलियत है| और ना ही कु़व्वत,ऐसे में मुसलमानों को चाहिए वह सपा बसपा और कांग्रेस जैसी पार्टियों को वोट देकर अपना वोट ज़ाया ना करें|

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग