*देश विदेश में मनाया गया उर्स ए शाह शुजाअत अली मियां*

 आज दिनांक 11 मई बरोज़ बुध 66 वें उर्स ए शाह शुजाअत अली मियां रह. अलैह के दूसरे और आखिरी दिन की शुरुआत सुबह कुरआन ख्वानी से की गई है।

इसके  बाद 8:00 बजे दरगाह शरीफ़ पर तकारीरी व नात ख्वानी का प्रोग्राम किया गया, प्रोग्राम का आग़ाज़ तिलावत शरीफ़ से हुआ।  *प्रोग्राम के खुसूसी आलिम हज़रत रुम्मान सकलैनी मुरादाबादी ने अपनी तकरीर में औलिया ए किराम की अज़मत ओ बुलंदी बयान करते हुए कहा कि तमाम औलिया अल्लाह (वली) काबिले एहतराम हैं, और हम लोगों को किसी को छोटा बड़े की नज़र से नहीं देखना चाहिए, सबके मर्तबे आला और अफज़ल हैं, औलिया अल्लाह हमें अल्लाह तक पहुंचाने और हक के रास्ते पे मज़बूती से कायम रखने का वसीला होते हैं, यही अल्लाह वाले हैं जिनके ज़रिए से अल्लाह हम पर रहम और हमारी मदद फरमाता है|


हज़रत मुंतखब मियां नूर साहब ने कहा कि साहिबे उर्स हज़रत शाह शुजाअत अली मियां सिलसिले के बड़े जलील उल कद्र और कामिल बुजुर्ग हैं, अल्लाह का शुक्र है हम तमाम अहले सिलसिला अपनी दुनिया ओ आखिरत के लिए अपने बुजुर्गो से बहुत बहुत मुत्मइन हैं, और हम तमाम औलिया अल्लाह का अदब ओ एहतराम करते हैं|

सुबह फज्र के वक्त से ही ज़ायरीन की आमद का खूब तांता बंध गया था। उर्स में शिरकत करने के लिए ज़ायरीन का सैलाब उमड़ पड़ा, महाराष्ट्र, गुजरात, बिहार, बंगाल, छत्तीसगढ़, राजस्थान, पंजाब, उत्तराखंड, दिल्ली, मध्य प्रदेश, तेलंगाना आदि राज्यों के ज़्यादातर शहरों व गांव कस्बों से ज़ायरीन उर्स में शामिल होने आए इसके अलावा विदेशों से भी दुबई, कनाडा, साउथ अफ्रीका, सऊदी अरब, अमरीका आदि देशों से भी काफी तादाद में ज़ायरीन ककराला पहुंचे। 

जैसे जैसे कुल शरीफ़ का वक्त नज़दीक आया दरगाह शरीफ़ व आस पास के सभी इलाकों में लोग सैलाब की तरह भर गए, जिसको जहां जहां जगह जगह मिली वो वही पर जम गया।

 ठीक 11:00 बजे पीरो मुरशिद शाह सकलैन मियां हुज़ूर मंच पर तशरीफ़ लाए और कुल शरीफ़ की रस्म अदा की।

कुल शरीफ़ के इस मुबारक मौके पीरो मुरशिद मियां हुज़ूर ने तमाम ज़ायरीन के हक़ में खूब दुआएं कीं और मुसलमानों की हिफाज़त मुल्क में अमन व चैन के लिए खुसूसी दुआएं कीं।

कुल के बाद किब्ला पीरो मुर्शिद मियां हुज़ूर ने तमाम ज़ायरीन व मुरीदों को अहले सुन्नत वल जमाअत पर कायम रहने और बुजुर्गों के रास्ते पर चलने की हिदायतें कीं और फरमाया कि अपने बुजुर्गों पीर के दामन से लगे रहें और उनके नक्शे कदम पर ज़िंदगी गुज़ारें


*कुल शरीफ़ का हुआ लाइव टेलीकास्ट, विदेशों में भी मनाया गया उर्स*


66 वें उर्स शाह शुजाअत अली मियां का लाइव टेलीकास्ट यूट्यूब के आई सकलैनी पर किया गया जिसके ज़रिए देश- विदेश में ऑनलाइन अकीदतमंद कुल शरीफ़ में शामिल हुए और अपने अपने घरों, मुहल्लों में नियाज़ नज़र और लंगर का बड़े पैमाने पर एहतिमाम किया। 

कुल शरीफ़ के वक्त मंच पर खास तौर पर जनाब गाज़ी मियां साहब, जनाब मुंतखब मियां साहब, हाफ़िज़ गुलाम गौस, हाफिज आमिल सकलैनी, सलमान सकलैनी, हमज़ा सकलैनी, इंतिखाब सकलैनी, मुनीफ सकलैनी, गुलाम मुर्तुजा, फैज़याब सकलैनी, ज़िया राशिद सकलैनी, मौलाना नूर मुहम्मद, मौलाना अनवार, हाफ़िज़ जाने आलम आदि मौजूद रहे। 

दो उर्स खूब शान ओ शौकत के साथ मनाया गया और ज़ायरीन के लिए हर वक्त लंगर जारी रहा, सुबह रात तक दरगाह शरीफ़ का दस्तरख्वान मेहमानों के लिए सजा रहा। 

कुल शरीफ़ की रस्म के साथ 66 वां उर्स ए शाह शुजाअत मियां का सकुशल समापन हो गया।

उर्स के समापन के बाद तमाम ज़ायरीन ने लंगर का खाना खाया और पीरो मुरशिद मियां हुज़ूर से सलाम किया और इजाज़त लेकर अपने अपने घरों को रुखसत हो गए।

उर्स के सकुशल समापन होने पर दरगाह शरीफ़ के ज़िम्मेदार मियां हुज़ूर के छोटे भाई जनाब मुंतखब मियां साहब ने तमाम अहले सिलसिला अकीदतमंदों को उर्स की मुबारक बाद पेश की और पोलिस प्रशासन के सहयोग के लिए शुक्रिया अदा किया। मुमताज़ मियां साहब के बेटे इंतिखाब मुमताज़ सकलैनी ने एसएसपी, सी ओ दातागंज, थाना अध्यक्ष अलापुर, चौकी इंचार्ज ककराला का उर्स में पूर्ण सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने व सहयोग के लिए सबका शुक्रिया अदा किया, और साथ ही उर्स में बेहतर कवरेज के लिए समस्त मीडिया का भी दिल से शुक्रिया अदा किया


रिपोर्ट - मुस्तकीम मंसूरी

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बरेली के बहेड़ी थाने में लेडी कांस्‍टेबल के चक्‍कर में पुलिस वालों में चलीं गोलियां, थानेदार समेत पांच पर गिरी गाज

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

लोनी नगर पालिका परिषद लोनी का विस्तार कर 11 गांव और उनकी कॉलोनियों को शामिल कर किया गया