नव वर्ष हिंदू सनातन संस्कृति का परिचायक है चैत्र शुक्ल प्रतिपदा में प्रकृति नए रूप में नए रंग में ऊर्जा का संचार करती है

 अनीता देवी की रिपोर्ट

नव वर्ष चैत्र शुक्ल प्रतिपदा नव संवत्सर के अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेतृत्व में स्वयं सेवकों का पथ संचलन नगर में भ्रमण पर निकला इस अवसर पर   राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विभाग प्रचारक ओमवीर सिंह ने कहा की नव वर्ष हिंदू सनातन संस्कृति का परिचायक है चैत्र शुक्ल प्रतिपदा में प्रकृति नए रूप में नए रंग में ऊर्जा का संचार करती है वर्तमान परिदृश्य में प्रत्येक भारतवासी अपने घरों में भगवा ध्वज लहरा कर मां देवी दुर्गा की उपासना करके नव वर्ष का प्रारंभ करता है।



 




राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक कार्यकर्ता और पदाधिकारी पूर्ण गणवेश में पथ संचलन करके समाज को एकरूपता का संदेश देने का कार्य करता है प्रत्येक भारतवासी वसुधैव कुटुंबकम की भावना को जागृत करना ही संघ का प्रथम उद्देश्य है। कार्यक्रम में विभाग कार्यवाह शशांक भाटिया जिला प्रचारक सुशील कुमार त्रिवेंद्र कुमार डॉ हिमांशु अग्रवाल पूर्व मंत्री छत्रपाल सिंह गंगवार, धर्मेंद्र गंगवार, सुरेंद्र सिंह, राजू एडवोकेट,गौरव गंगवार,अनुज गुप्ता, निशित गंगवार, टीकाराम ,राहुल गुप्ता ,सुनील रस्तोगी, आलोक गर्ग, प्रमोद अग्रवाल ,प्रदीप श्रीवास्तव ,,दिनकर गुप्ता ,सतीश राठौर, विकास गुप्ता ,आलोक गंगवार, सोहन वीर, विजय कुमार ,तिलक मौर्य, डॉ सुरेंद्र गंगवार ,राहुल मंडल ,जयेंद्र सिंह, विजय गंगवार, रामाश्रय कश्यप, रवि अरोरा, आज के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के जूलूस में नैनीताल रोड पे व्यापार मण्डल के तमाम लोग शामिल रहे।जिसमे मुख्य रूप से सलीम रहबर (अध्यक्ष) व्यापार मंडल बहेड़ी ,रीतिन गोयल, हाजी मोहम्मद अशरफ,आरिफ एड्वोकेट, शमीम सिद्दीकी,लईक़ शेरी, हाजी इम्तियाज अहमद पूर्व सभासद ,अलीम पप्पू,अनीस रज़ा खान, हाजी मोहम्मद रज़ा, उमर रशीद, सहित दर्जनों व्यापार मण्डल के लोग मौजूद रहे। नगर कार्यवाह धर्मेंद्र गंगवाr भी उपस्थित थे

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग