बरखेड़ा में नाबालिग के साथ सामूहिक रेप के बाद की गई हत्या के विरोध में हिन्दू युवा वाहिनी ने किया धरना-प्रदर्शन।

 हिंदू युवा वाहिनी के नेताओं ने पीड़ित परिवार को आश्वासन दिया कि जिन्होंने भी जघन्य अपराध किया है उन पर कठोर से कठोर कार्रवाई कराई जाएगी

13नवम्बर को नाबालिग के साथ हुए समूहिक दुष्कर्म के बाद की गई उसकी जघन्य हत्या की घटना के संबंध में आज हिंदू युवा वाहिनी परिवार और पीलीभीत के यशस्वी जिला प्रभारी हिंदू हृदय सम्राट राजेश सक्सेना अपने समस्त कार्यकर्ता और पदाधिकारियों के साथ घटनास्थल पर पहुंचने के साथ ही पीड़ित परिवार से मुलाकात की।


इस दौरान हिन्दू युवा वाहिनी संरक्षक मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश पूज्य योगी आदित्यनाथ महाराज जी के सेवक माननीय अशोक सिंह जी प्रदेश उपाध्यक्ष हिंदू युवा वाहिनी, संभाग प्रभारी बरेली और मुरादाबाद मंडल से दूरसंचार के माध्यम से पीड़ित परिवार से वार्ता करवाई और हर संभव मदद करने का आश्वासन भी दिया और कहा अगर जल्द से जल्द खुलासा नहीं हुआ तो जिला प्रभारी राजेश सक्सेना पीड़ित परिवार को प्रदेश उपाध्यक्ष जी के साथ पूज्य योगी महाराज जी से मुलाकात करवाएंगे। साथ ही पीड़ित परिवार को आश्वासन दिया कि जिन्होंने भी जघन्य अपराध किया है उनपर कठोर से कठोर कार्यवाही करवाई जाएगी और पीड़ित को न्याय दिलाया जाएगा। 

     इस दौरान हिंदू वाहिनी के जिला महामंत्री कपिल राठौर, जिला उपाध्यक्ष मनोज रस्तोगी, जिला महामंत्री संगठन सूरज वर्मा, जिला मीडिया प्रभारी ईश्वरी प्रसाद, बरखेड़ा ब्लाक अध्यक्ष दिनेश रस्तोगी, नगर अध्यक्ष सुनील शर्मा, ब्लॉक प्रभारी शिवम गंगवार, ब्लॉक महामंत्री हरीश पाल, प्रिंस भारद्वाज, विनायक वर्मा के साथ ही बड़ी संख्या में हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ता उपस्थित रहे। 

      कार्यकर्ताओं के साथ धरना-स्थल पर पहुंचे जिला उपाध्यक्ष गोपाल कृष्ण शर्मा ने भी पीड़ित परिवार को सांत्वना दें कार्रवाई का भरोसा दिलाया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग