16 जनवरी से 31 अक्टूबर तक मतदाता सूची में 21 लाख 56 हजार 262 नाम जोड़े गए हैं और 16 लाख 42 हजार 756 नाम काटे गए हैं- अखिलेश यादव

 समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि ऐसा पहली बार हुआ है जब मतदाता सूची के प्रकाशन के समय नए जुड़े मतदाता व काटे गए मतदाता के नामों की सूची न तो जारी की गई न ही राजनीतिक दलों को दी गई। ऐसे में यह साफ नहीं हो पा रहा है कि मतदाता सूची में कितने लोगों के नाम जोड़े गए और कितने लोगों के नाम काटे गए।

उन्होंने ऐलान किया कि चुनाव आयोग अगर मतदाता सूची नहीं देगा तो समाजवादी पार्टी आयोग के खिलाफ धरना प्रदर्शन करेगी।सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रदेश कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि इस साल 16 जनवरी से 31 अक्टूबर तक मतदाता सूची में 21 लाख 56 हजार 262 नाम जोड़े गए हैं और 16 लाख 42 हजार 756 नाम काटे गए हैं। जो नाम काटे गए और जो जोड़े गए उनकी सूची विशेष संक्षिप्त मतदाता पुनरीक्षण अभियान से पहले जारी की जाती थी, लेकिन इस बार चुनाव आयोग ने इसे अलग से जारी नहीं किया है। वर्तमान में जितने मतदाता है केवल उनकी सूची जारी की गई है।सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि अगर चुनाव आयोग ने ये सूची नहीं दी तो हम चुनाव आयोग के खिलाफ धरना देंगे। वर्ष 2019 के लोक सभा चुनाव से पहले जोड़े गए नाम व काटे गए नामों की सूची अलग से जारी की गई थी। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग दिल्ली में जितने अधिकारी गए हैं सब यूपी से हैं। यूपी में ही चुनाव भी हैं। हम उम्मीद करते हैं कि चुनाव आयोग निष्पक्षता से काम करेगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत