16 जनवरी से 31 अक्टूबर तक मतदाता सूची में 21 लाख 56 हजार 262 नाम जोड़े गए हैं और 16 लाख 42 हजार 756 नाम काटे गए हैं- अखिलेश यादव

 समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि ऐसा पहली बार हुआ है जब मतदाता सूची के प्रकाशन के समय नए जुड़े मतदाता व काटे गए मतदाता के नामों की सूची न तो जारी की गई न ही राजनीतिक दलों को दी गई। ऐसे में यह साफ नहीं हो पा रहा है कि मतदाता सूची में कितने लोगों के नाम जोड़े गए और कितने लोगों के नाम काटे गए।

उन्होंने ऐलान किया कि चुनाव आयोग अगर मतदाता सूची नहीं देगा तो समाजवादी पार्टी आयोग के खिलाफ धरना प्रदर्शन करेगी।सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रदेश कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि इस साल 16 जनवरी से 31 अक्टूबर तक मतदाता सूची में 21 लाख 56 हजार 262 नाम जोड़े गए हैं और 16 लाख 42 हजार 756 नाम काटे गए हैं। जो नाम काटे गए और जो जोड़े गए उनकी सूची विशेष संक्षिप्त मतदाता पुनरीक्षण अभियान से पहले जारी की जाती थी, लेकिन इस बार चुनाव आयोग ने इसे अलग से जारी नहीं किया है। वर्तमान में जितने मतदाता है केवल उनकी सूची जारी की गई है।सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि अगर चुनाव आयोग ने ये सूची नहीं दी तो हम चुनाव आयोग के खिलाफ धरना देंगे। वर्ष 2019 के लोक सभा चुनाव से पहले जोड़े गए नाम व काटे गए नामों की सूची अलग से जारी की गई थी। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग दिल्ली में जितने अधिकारी गए हैं सब यूपी से हैं। यूपी में ही चुनाव भी हैं। हम उम्मीद करते हैं कि चुनाव आयोग निष्पक्षता से काम करेगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग