मोदी सरकार अब किस चालाकी के साथ फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया(FCI) को एक रणनीति के तहत बेचने की तैयारी कर रही है।


 ऑल इंडिया मुस्लिम मजलिस के राष्ट्रीय महासचिव मुस्तकीम मंसूरी ने कहा मोदी सरकार देश के संसाधनों पर जिस तरह पूजी पतियों का कब्जा करवा रही है। वह अत्यंत चिंता का विषय है। परंतु उससे कहीं अधिक चिंता का विषय है एनडीए के घटक दलों और विपक्षी दलों की खामोशी है।

मुस्तकीम मंसूरी ने कहा मोदी सरकार अब किस चालाकी के साथ फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया(FCI) को एक रणनीति के तहत बेचने की तैयारी कर रही है।

मोदी सरकार की क्या रणनीति है इस पर एक नजर डालते हैं।

फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (FCI) बिकेगी..मोदी ने गढ्ढा खोद दिया है..एक धक्का और दो, FCI बेच दो..

====================

● 1964-2014 यानी FCI के बनने के बाद मार्च 2014 तक FCI का टोटल कर्ज था 91,409 करोड़..(50 साल का कर्ज)

● 2014-2020, यानी मोदी के वक्त FCI का कर्ज हो गया लगभग 3.5 लाख करोड़..यानी 382% बढ़ गया..(6 साल का कर्ज)

1. कैसा खेल खेला है मोदी सरकार ने FCI के साथ?

===================

- FCI की खुद की कोई इनकम नही होती

- सरकारी सब्सिडी का माध्यम है FCI

- फूड स्टोरेज, PDS भी FCI का काम है

- फूड सिक्योरिटी एक्ट भी FCI लागू करता है

- मोदी ने FCI को सब्सिडी देना बंद कर दिया

- FCI को बाजार से कर्ज लेने बोला गया

- पूरे कर्ज पर भारत सरकार की गारंटी है

- FCI के गोडाउन बरबाद कर दिए गए

- PDS भी बरबाद होने की कगार पर है


2. कैसे बिकेगी FCI? प्लान क्या है?

====================

● FCI वैसे भी Financially Unviable हो चूका है..ठीक वैसे ही जैसे BSNL, MTNL, ONGC वगैरह को बरबाद किया..

आज FCI पर जितना कर्ज है। उससे 3 गुना कीमत की जमीन है। FCI के पास..यानी सोने की खान है..

● थोड़े दिनों में शोर मचाया जाएगा कि FCI को कांग्रेस ने बरबाद कर दिया..VRS स्कीम आ जाएगी..एम्प्लॉयी रिटायर हो जाएंगे..और मैदान साफ..

● तब तक पूरा अनाज का स्टोरेज अडानी के पास होगा और FCI अडानी को बिकना बड़ा स्वाभाविक सा लगेगा..

● सरकार आपको बताएगी की राष्ट्रहित में अडानी ने FCI का पूरा कर्ज भी अपने सर पर ले लिया है..पर FCI के पूरे कर्ज पर भारत सरकार की गारंटी है..तो कर्ज भी सरकार ही चुकाएगी..

मेरा अनुमान है कि 2024 तक FCI पर लगभग 6 लाख करोड़ का कर्ज होगा..अब देखना है कि FCI कब बिकती है : 2024 के पहले या 2024 के बाद?

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग