किसान नेता बी.एम सिंह ने किसानों को भगवत सरन गंगवार को चुनाव लड़ाने और जिताने के लिए कहा, किसान विरोधी सरकार को उखाड़ फेकना जरूरी*

बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए पीलीभीत से शाहिद खान की रिपोर्ट*

पीलीभीत:आज समाजवादी पार्टी के नकटादाना स्तिथ जिला कार्यालय पर एकत्रित हुए बी.एम.सिंह समर्थको को सरदार बी.एम सिंह ने इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी भगवत सरन गंगवार की उपस्तिथि मे वीडियो कांफ्रेसिंग कर 19 अप्रैल को होने वाले चुनाव मे इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी भगवत सरन गंगवार को समर्थन करने के निर्देश दिये इस दौरान वीडियो कांफ्रेसिंग मे


बी.एम सिंह ने कहा की "आज पूरे देश मे किसानो के साथ अराजकता हो रही है उनको उनकी फसलों का बाजिब दाम नही मिल रहा है आज भी किसानो पर थार चढ़ाकर क्रूरता की हदे पार करने वाले का पिता केंद्र मे मंत्री के पद पर बना हुआ है किसान आत्महत्या करने को विवश है ऐसी स्तिथि मे हमने ये तय किया है की इस किसान् विरोधी सरकार को उखाड़ फेकने का कार्य हम सभी को करना है उसी कड़ी मे आज इंडिया

गठबंधन के प्रत्याशी भगवत सरन गंगवार को समर्थन देकर उनको चुनाव लड़ाने का फैसला किया जाता है सभी साथी तन मन धन से चुनाव मे जुटकर उनको सफल बनाने का कार्य करे जिससे इस किसान विरोधी सरकार को हटाया जा सके"

गठबंधन प्रत्याशी भवगत सरन गगवार ने सभी कार्यकर्ताओ को ये भरोसा दिलाया की उनके मान सम्मान मे कोई कमी नही आने दी जाएगी किसानो की लड़ाई मे वह उनके साथ खड़े रहेंगे उन्होंने कहा भाई सरदार बी.एम सिंह का मै दिल से धन्यवाद करता हूं कि उन्होंने इस लड़ाई मे उनका साथ देकर उन्हे मजबूती दी

सपा जिलाध्यक्ष जगदेव सिंह जग्गा ने आए हुए सभी समर्थको का आभार जताया एव बी.एम सिंह जी को भी धन्यवाद दिया उन्होंने सभी कार्यकर्ताओ से क्षेत्र मे जाकर जी जान से जुटने की अपील की 

इस दौरान प्रमुख रूप से मंजीत सिंह, हरदेव सिंह, कुलवीर सिंह फौजी बलविंदर सिंह अशोक समशा ,अमित पाठक ,ग्यासुद्दीन मंसूरी आदि नेतागण  मौजूद रहे l

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

विधायक अताउर्रहमान के भाई नसीम उर्रहमान हज सफर पर रवाना

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र