सी-5, यमुना विहार, दिल्ली के प्रांगण में संचालित डा० बी.आर. अम्बेडकर पुस्तकालय में कार्यक्रम ध्वजारोहण एवं बैठक का आयोजन किया गया।

 26 जनवरी 2024 को 75 वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर सिद्धार्थ बौद्ध बिहार, सी-5, यमुना बिहार, दिल्ली के प्रांगण में संचालित डा० बी.आर. अम्बेडकर पुस्तकालय में कार्यक्रम ध्वजारोहण एवं बैठक का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि श्री राजेन्द्र पाल गौतम-विधायक एवं पूर्व मंत्री, दिल्ली सरकार, श्री दया शंकर-पूर्व जज-आगरा, श्री अरविन्द कुमार बिम्बसारीय उप महा प्रबन्धक, पैट्रोलिय मंत्राली डा० धम्मदीप वानखेडे- प्रोफेसर- अन्तर्राष्ट्रीय- भारत सरकार, श्री बलजोर सिंह-अध्यक्ष- इस्ट एवं बौद्ध अध्ययन विभाग, दिल्ली विश्व विद्यालय, डा० रविन्द्र कुमार-प्रोफेसर लॉ फैकल्टी दिल्ली विश्व विद्यालय, श्री हलीम खान- मुख्य संम्पादक एक वरिष्ठ ७ जर्नलिस्ट,श्री एन. एल निगम, डा. अमर पाल जोशी, श्री रोहित कुमार आजाद एवं छात्र छात्राऐं तथाअन्य सामाजिक चिलेक-विद्वान- विचारक कार्यक्रम में उपस्थित रहे।


पूर्व विधायक, डा. कंचनलता कार्यक्रम का संचालन करते हुए सिद्धार्थ टैम्पल ट्रस्ट के महासचिव एस. एस.

वरुण ने भारतीय संविधान निर्माण कार्य में बाबा साहेब डॉ० भीमराव अम्बेडकर के महानतम योगदान तथा संविधान में दिए गए मौलिक अधिकारों तथा वोट के अधिकार का सही प्रयोग करने के विषय प्रकाश डाला तथा शोषित सर्वहारा वर्ग को उच्च शिक्षा

ग्रहण करने और विश्व में शांति स्थापित करने के लिए बौद्ध धर्म की आश्यकता पर बल दिया। श्री राजेन्द्र पाल गौतम जी ने भारत को बौद्धमय बनाने एवं अपनी

सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित करने के लिए आह्वान किया। श्री दया शंकर-पूर्व जज के द्वारा भारतीय संविधान में दिए गए मौलिक अधिकारों-विधायिका एवं

कार्यपालिका के अधिकार क्षेत्र, संवैधानिक व्यवस्था के विषय में विस्तृत जानकारी दी गई। उक्त जानकारी एस. एस. वरुण महा सचिव सिद्धार्थ टैम्पल ट्रस्ट,यमुना बिहार, दिल्ली ने दी।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत

पीलीभीत सदर तहसील में दस्तावेज लेखक की गैर मौजूदगी में उसका सामान फेंका, इस गुंडागर्दी के खिलाफ न्याय के लिए कातिब थाना कोतवाली पहुंचा*