बहेड़ी की पत्रकार अनीता देवी के खिलाफ फर्जी मुकदमा लिखे जाने के मामले को लेकर पत्रकारों का शिष्टमंडल डीजीपी से मिलेगा।

 रिपोर्ट: वीरेंद्र बिष्ट

पत्रकार अनीता देवी द्वारा रिश्वत कांड का ऑडियो उच्च अधिकारियों को ट्वीट करना ही मुकदमा लिखे जाने का है मुख्य कारण - मुस्तकीम मंसूरी

बरेली, बेताब समाचार एक्सप्रेस के यूपी प्रभारी मुस्तकीम मंसूरी ने जनपद बरेली की तहसील बहेड़ी की पत्रकार अनीता देवी पर पुलिस द्वारा लिखे गए फर्जी मुकदमे की कार्रवाई को लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर हमला बताते हुए कहा कि प्रदेश की योगी सरकार पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर जहां बड़े-बड़े दावे करती है वहीं बहेड़ी पुलिस पत्रकारों का फर्जी मुकदमे लिखकर उत्पीड़न करने का कार्य कर रही है।


उन्होंने कहा थाना शेरगढ़ के दो दरोगाओं को रिश्वत कांड में सीओ बहेड़ी बचाने के लिए उच्च अधिकारियों को गुमराह कर रहे थे। परंतु पत्रकार अनीता देवी ने रिश्वत कांड का ऑडियो उच्च अधिकारियों को ट्वीट  करके मामले को उजागर कर दिया। पत्रकार के ट्वीट के बाद दोनों दरोगाओं का सस्पेंड होना ही पत्रकार के खिलाफ मुकदमा लिखने का मुख्य कारण बना। मुस्तकीम मंसूरी ने कहा एक महिला पत्रकार के साथ सीओ बहेड़ी के अधिनिस्त द्वारा अभद्र व्यवहार करना, गाली गलोज करना, मोबाइल छीन लेना, सरकार के नारी सुरक्षा नारी सम्मान के दावों का उल्हास उड़ाने जैसा है। उन्होंने कहा अगर बहेड़ी पुलिस का व्यवहार महिला पत्रकार के साथ इस तरह का है, तो पुरुष पत्रकारों के साथ किस तरह का व्यवहार किया जाता होगा यह अपने आप में एक बड़ा सवाल है। मुस्तकीम मंसूरी ने कहा बहेड़ी पुलिस द्वारा महिला पत्रकार के खिलाफ फर्जी मुकदमा लिखे जाने के मामले में एक शिष्टमंडल डीजीपी उत्तर प्रदेश से मुलाकात कर पूरे मामले से अवगत कराया जाएगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उज़मा रशीद को अपना बेशकीमती वोट देकर भारी बहुमत से विजई बनाएं

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश