मुख्यमंत्री शिक्षा सलाहकार द्वारा हरियाली संरक्षण ट्रस्ट को मिला अंतराष्ट्रीय सर्वहित ग्रीन थिंकर अवार्ड 2023।

सर्वहित कल्याण सेवा समिति मेरठ द्वारा आई. एम. ए. नोएडा मे आयोजित दो दिवसीय अंतराष्टीय संगोष्ठी "कार्बन फुटप्रिंट" पर आयोजित की गई इस दौरान पर्यावरण के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले वैज्ञानिक , शिक्षाविद और सामाजिक संस्था हरियाली संरक्षण ट्रस्ट को सम्मानित किया गया।


कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ. डी.पी. सिंह पूर्व यू.जी.सी. चेयरमेन, वर्तमान शिक्षा सलाहकार मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश रहे । विशिष्ट अतिथि के रूप में श्री राजीव कुमार पूर्व आई एफ एस एवं एम ओ ई एफ चेयरमेन भारत सरकार , रियर एडमिरल ओ पी एस राणा  , प्रो.ए सी पांडेय निदेशक यू जी सी , श्री आर के चतुर्वेदी पूर्व आई जी , प्रो.एस के काक पूर्व वाइस चांसलर , श्री अनिल सिंह गहलोत अध्यक्ष लोक अधिकार मंच ,श्री शेष बघेल सदस्य एन एच आई के साथ अनेकों विश्व स्तरीय वैज्ञानिक रहे। डॉ मधु वत्स पर्यावरणविद,अध्यक्षा सर्वहित द्वारा "सर्वहित ग्रीन थिंकर अवार्ड 2023" हेतु   रिहान मलिक अध्यक्ष "हरियाली संरक्षण ट्रस्ट"का चुनाव रिहान मालिक के निस्वार्थ सेवा भाव से पर्यावरण के क्षेत्र में उत्कृष्ट एवं जमीनी स्तर पर किये कार्यो को  देखते हुए किया गया। रिहान मलिक और उनकी टीम के मौजूद पदाधिकारी सरदार सुखबीर सिंह पनेसर, मो. जाहिद कुरैशी, दानिश कस्सार को ,अंतराष्ट्रीय सर्वहित ग्रीन थिंकर अवार्ड 2023 डॉ डी पी सिंह शिक्षा सलाहकार मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश द्वारा प्रदान किया गया। इस अवसर पर डॉ मधु वत्स जी द्वारा लिखी पुस्तक "भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी" का विमोचन भी किया गया । यह अवार्ड मिलने पर उपस्थित लोगों ने ट्रस्ट के कार्यों की सहाना की और मुबारकबाद दी जिससे पदाधिकारीयो में उत्साह व खुशी का माहौल रहा ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत

पीलीभीत सदर तहसील में दस्तावेज लेखक की गैर मौजूदगी में उसका सामान फेंका, इस गुंडागर्दी के खिलाफ न्याय के लिए कातिब थाना कोतवाली पहुंचा*