दरोगा की धमकियों से परेशान जान माल की गुहार लगाने समाज सेविका पहुंची कप्तान के दरबार,

 रिपोर्ट-मुस्तकीम मंसूरी

समाज सेविका रेहाना बी की एसएसपी बरेली ने फरियाद सुनकर पूरे मामले की जांच के निर्देश दिए हैं।

बरेली, इज्जत नगर थाना क्षेत्र के बड़ी बिहार निवासी समाज सेविका रेहाना बी ने अपने क्षेत्र के दरोगा से अपनी सुरक्षा एवं अपने परिवार व जान माल की सुरक्षा की फरियाद लेकर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बरेली से न्याय की गुहार लगाने उनके दरबार पहुंची। समाज सेविका रेहाना बी ने जिले के कप्तान को शिकायती प्रार्थना पत्र देकर हलके के दरोगा की शिकायत करते हुए कहा कि मुझे नहीं मालूम कि मेरे हलके के दरोगा मेरे साथ अभद्र व्यवहार क्यों करते हैं।


समाज सेविका दरोगा के उत्पीड़न से परेशान होकर सोमवार को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बरेली के कार्यालय पहुंची, और पुलिस कप्तान को अपनी आपबीती सुनाते हुए रो पड़ी। पुलिस कप्तान से महिला ने कहा कि दरोगा मुझे गलत तरह से बोलता है, और दरोगा ने मेरे चरित्र पर भी सवाल उठाए हैं जिसकी जांच कर ली जाए मैं जांच की हर प्रक्रिया से गुजरने को तैयार हूं। दरोगा बार-बार झूठे मुकदमे में जेल भेजने की धमकी भी दे रहे हैं। दरोगा के इस तरह के व्यवहार से मुझे जान और माल का खतरा बना हुआ है जिसकी शिकायत मैं आपके समक्ष दर्ज करने आई हूं। जिस पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बरेली सुशील चंद्रभान ने पूरे मामले में जांच के निर्देश दिए हैं। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के आश्वासन के बाद इज्जत नगर थाना क्षेत्र के बड़ी बिहार निवासी रहना बी ने बताया कि मैं समाज सेवा से जुड़ी हुई हूं, मेरे पति आरिफ अपना खुद का ट्रक चलाते हैं। समाज सेविका रेहाना बी ने बताया कि मैं एक झगड़े के मामले में इज्जत नगर थाने गई थी जहां पर एक दरोगा ने दूसरे पक्ष से मिलकर मुझे धमकाना शुरू कर दिया। पीड़िता ने आगे बताया कि मैं अपने भाई के मकान में रह रही हूं, परंतु दरोगा ने दूसरे पक्ष से 50, हजार लेकर घर से निकाल दिया। उसके बाद बुरी तरह से गालियां दी। रेहना बी  दरोगा पर धमकाने और गालियां देने का भी आरोप लगाते हुए बिलखने लगी और बताया कि दरोगा ने मेरे चरित्र पर सवाल उठाए हैं जो किसी भी नारी के लिए एक बड़ा अपमान होता है। महिला ने बताया कि 7 नवंबर को  मैं अपने घर पर थी, इस बीच दरोगा पहुंचा और मुझे तरह-तरह से धमकाया और बेइज्जत करते हुए कहा कि तेरा चरित्र ठीक नहीं है यदि थाने के चक्कर काटे या कोई पैरवी की तो एक मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया जाएगा। महिला ने बताया कि दरोगा ने थाने के अंदर भी झूठे मुकदमे में जेल भेज देने की धमकी दी है। पीड़ित महिला ने दरोगा की अधिकारियों से शिकायत करते हुए अपनी जान माल का खतरा बताते हुए कहा कि दरोगा मुझे या मेरे परिवार के किसी भी सदस्य को फर्जी मुकदमे में जेल भिजवा सकते हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उज़मा रशीद को अपना बेशकीमती वोट देकर भारी बहुमत से विजई बनाएं

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश