राजस्थान में राजनीति की रंगत, चुनाव में कहीं पर फीकी तो कहीं पर निखरती नजर आ रही है,

 रिपोर्ट-मुस्तकीम मंसूरी

राजस्थान की राजनीति में चेहरों की जंग है। जिसमें कहीं पर चेहरे की जगह कमल खिल रहा है, टोकुश के चेहरे का रंग बदरंग है। वही किसी के चेहरे पर हवाइयां उड़ रही है, तो कोई अपना सा चेहरा लिए घूमने पर मजबूर है। वहीं कुछ चेहरों पर कालिख पुत रही है, तो कोई चेहरा दमक रहा है, कोई चमक रहा है और कोई गुलाबी से कल पड़ता जा रहा है। सुर्ख चेहरों की लाली का नूर फीका पड़ रहा है। और फ्री के चेहरों पर मीठी मुस्कान बिखर रही है। यह चेहरे कुछ कांग्रेस के मंत्रियों विधायकों और नेताओं के हैं, तो कुछ बीजेपी के भी बड़े चेहरे हैं।


बीजेपी में वसुंधरा राजे इस चुनाव में साफ तौर पर सामने नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भले ही कह दिया हो कि इस चुनाव में कमल ही चेहरा है। लेकिन वास्तव में देखें तो चेहरा तो नरेंद्र मोदी का ही है, कमल तो केवल प्रतीक है। वोट कमल को नहीं, मोदी को मिलते हैं। चेहरा अगर महारानी के नाम से मशहूर वसुंधरा राजे का होता तो लोग पसंद भी करते, क्योंकि राजस्थान में प्रधानमंत्री मोदी के बजाय महारानी ही खिलता हुआ चेहरा है, कमल की तरह। जनता मोदी को राजस्थान का चेहरा नहीं देश का चेहरा मानती है। प्रदेश की जनता में अपनी पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का नाम सबसे ऊपर होने के बावजूद उनके बिना कमल खिलाने की मोदी की कोशिश कितनी सफल होती है, इस पर सबकी नज़रें है।

हालांकि विपक्ष के नेता राजेंद्र सिंह राठौर की उम्र 68 की होने के बावजूद उनके चेहरे पर नूर चमक रहा है तो पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया के चेहरे की लाली भी निखर रही है। इसके उलट राज्यवर्धन सिंह राठौड़ और देव जी पटेल के चेहरे का रंग उड़ा हुआ है। दोनों सांसदों को विधानसभा की उम्मीदवारी दिए जाने के बाद से उनके इलाके में ही दोनों का जबरदस्त विरोध हो रहा है। तीन बार के सांसद देव जी पटेल को उनके गृह नगर सांचोर से विधानसभा का उम्मीदवार बनाते ही उनके खिलाफ विरोध का फव्वारा फट पड़ा है। उनकी अपनी ही पार्टी बीजेपी के कार्यकर्ताओं द्वारा धक्का मुक्ति से लेकर उनकी गाड़ी के कांच तक फोड़े गए हैं। सांचोर मैं जीवन राम चौधरी और दानाराम चौधरी सहज उम्मीदवार थे, लेकिन देव जी ने पार्टी की उम्मीदवारी स्वीकारी तो विरोध तो होना ही था। अब देव जी की जीत पर खतरा मंडरा रहा है।

उदयपुर केंद्रीय मंत्री और वर्तमान सांसद कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौर को झोटवाड़ा से उम्मीदवार बनाया गया तो पहले से ही वहां के दमदार नेता तथा पूर्व मंत्री राजपाल सिंह शेखावत के समर्थकों ने 'करनाल कहना मान ले' 'बोरिया बिस्तर बांध ले' के नारों से विरोध शुरू कर दिया है। कल तक राज्यवर्धन सिंह राठौड़ के भी कार्यकर्ता यही थे, लेकिन उम्मीदवारी मिलने के बाद राज्यवर्धन स्वयं जब उनको प्रसाद स्वरूप लड्डू खिलाने गए, तो भी उन्होंने विरोध किया और प्रेम से गले लगाने निकले, तो उनसे मिलना तक गवारा नहीं समझा। इस बीच भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सीपी जोशी के चेहरे की लाली बढ़ रही है। उनका भरोसा है कि सरकार उनकी ही आनी है, उन्हीं के नेतृत्व में चुनाव हो रहा है, तो जीत का श्रेय भी उन्हीं को मिलता है। प्रदेश अध्यक्ष होने के नाते जोशी का सारे बड़े नेताओं से संबंध बढ़ता जा रहा है और यही नूर उनके चेहरे पर निखार भी ला रहा है।

वही कांग्रेस में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ही इस चुनाव में सबसे बड़ा चेहरा और सबसे बड़े नेता के रूप में सबके सामने है। गहलोत की राजस्थान के मुखिया के नाते शुरू की गई योजनाओं की हर तरफ प्रशंसा हो रही है, तो निश्चित रूप से चेहरा तो उन्हीं को होना था। बीजेपी में नरेंद्र मोदी की तरह राहुल गांधी को राजस्थान में पार्टी का चेहरा बनाने का रिस्क कांग्रेस नहीं ले सकती। चेहरा तो सचिन पायलट भी अपना चमकाने की जुगत में बीते 3 महीने से विरोध के स्वर सहेज कर शांति धारण किए हुए हैं, और अपनी लुभावनी अंग्रेजी से आल्हा कमान को पटाने में लगे हैं। लेकिन गहलोत को देखते ही या उनका नाम सुनते ही पायलट के चेहरे का रंग बदरंग हो जाता है।

तीन बार सांसद, केंद्र में मंत्री, प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री पद पर रहने के बावजूद किसी धुलंदर राजनेता की तरह पायलट अपने चेहरे के भाव छुप नहीं पाते, इसे उनकी कमजोरी माना जाता है। चेहरा कांग्रेस सरकार के वरिष्ठ मंत्री महेश जोशी का भी उतरा हुआ है। नई दिल्ली 24 अकबर रोड स्थित कांग्रेस मुख्यालय में टिकट पाने की ललक में उनको अकेले और लगभग अनाथ की तरह घूमते देख कईयों को उन पर तरस आ रहा था। महेश जोशी मुख्यमंत्री गहलोत के करीबी मंत्री हैं और 25 सितंबर 2022 को आल्हा कमान को आंख दिखाने की कोशिका का कर्तव्य उन्हीं के खाते में दर्ज किया गया है।

कांग्रेस सरकार के कुछ और चेहरों की बात की जाए, तो शांति धारीवाल के चेहरे पर कोटा में रिवर फ्रंट बनाने में करोड़ों की कमाई के दाग हैं, विकास पुरुष का अहंकार उनके चेहरे से साफ झलकता है, प्रताप सिंह खाचरियावास की कैची की तरह चलती जुबान का जिक्र तो खुद मुख्यमंत्री गहलोत भी कर चुके हैं। प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के भाषण सुनने वाले उनकी लुभावने और ठेट देसी शब्दावली के कायल है, मगर उनके चुनाव क्षेत्र लक्ष्मणगढ़ में उनके सामने बीजेपी के दमदार उम्मीदवार पूर्व केंद्रीय मंत्री सुभाष महरिया के होने से हार का डर अभी से मांडराने लगा है। उधर चुनाव से पहले गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस का जो गुलाबी नजर गली-गली गुल खिला रहा था, वह बीजेपी की दमदार कोशिशें के कारण क्या आकर ले रहा है, यह सभी को दिख रहा है।

राजस्थान की राजनीति के चेहरे के बदरंग होते रंग और फीके पढ़ते नूर का यह सिलसिला आगे कुछ दिनों तक जारी रहेगा और जीतने हारने तक लगातार आगे बढ़ता रहेगा। फिर उसके बाद अगली सरकार बनने तक कोई हंसेगा, तो नई सरकार बनने के बाद पिछली सरकार का कोई फंसेगा। लेकिन फिलहाल निखरते- बिखरते राजस्थान के यह सभी बड़े चेहरे हैं। सारे के सारे धुरंधर, सारे के सारे मजे हुए और अपने-अपने इलाकों में मजबूत भी मगर किसी नेता को अहंकार भारी पड़ा, तो किसी को उसका व्यवहार। किसी पर उसकी हरकतें बदनुमा दाग बनकर उभरी, तो कोई अथाह कमाई के फेर में फंस गया। यह सभी प्रदेश की राजनीति की धुरी  माने जाते हैं। लेकिन धुरी ही जब ढीली पड़ जाए, तो राजनीति के रंग अपने रंग दिखाते ही हैं। इसी वजह से राजस्थान में विधानसभा चुनाव शुरू होने से पहले जो गुलाबी परिदृश्य प्रतिबिंबित हो रहा था, उसकी तस्वीर धीरे-धीरे बदल रही है, और नेताओं के चेहरों के भाव भाव भी बदल रहे हैं। लेकिन नहीं बदल रही है, तो वह है राजनीति की रंगत, जो इस चुनाव में कुछ ज्यादा ही निखर रही है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उज़मा रशीद को अपना बेशकीमती वोट देकर भारी बहुमत से विजई बनाएं

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश