बीबी जी की मस्जिद में हुआ नातिया मुशायरा, अदनान मियां ने की सरपरस्ती

रिपोर्ट - नाजिश अली

आरएसी ने सजाई नूरानी महफ़िल 

देश के कोने-कोने से आए शायरों ने पढ़ा कलाम

उर्स के दूसरे दिन ज़िले भर से आएंगे चादरों के जुलूस

 बरेली, उर्स-ए-आला हज़रत व अमीन-ए-शरीअत के पहले दिन इशा की नमाज़ के बाद मरकज़ी मस्जिद बीबी जी में नातिया मुशायरा हुआ। नबीरा-ए-आला हज़रत व ऑल इंडिया रज़ा एक्शन कमेटी (आरएसी) के नायब सदर हज़रत अदनान रज़ा क़ादरी की सरपरस्ती में सजी इस नूरानी महफ़िल में देश के कई इलाक़ों से आए शायरों ने अपने कलाम पेश किए।


उर्स के पहले दिन सुबह से ही आरएसी मुख्यालय “बैतुर्रज़ा” पर अक़ीदतमंदों की भीड़ उमड़नी शुरू हो गई। नबीरा-ए-आला हज़रत से मुलाक़ात के बाद अक़ीदतमंदों ने दरगाह आला हज़रत पर हाज़िरी दी। इस दौरान मुख्यालय के अलावा कोहाड़ापीर सहित कई जगहों पर लगातार लंगर जारी है। उधर, रेलवे जंक्शन के पास माल गोदाम रोड पर हेल्पलाइन कैंप पर ज़ायरीन के लिए मुफ्त टेंपो सेवा भी शुरू हो गई है। इशा की नमाज़ के बाद मरकज़ी मस्जिद बीबी जी में नातिया मुशायरे से पहले मुफ्ती उमर रज़ा मुरादाबादी ने कलाम-ए-पाक की तिलावत की। इसके बाद शायरों ने अक़ीदत की ख़ुशबू में डूबे कलाम पेश किए। नात और मनक़बत सुनकर अक़ीदतमंदों ने दुरूद की सदाएं बुलंद कीं। मुशायरे का संचालन हाफ़िज़ इमरान बरकाती ने किया। रात 12 बजे तक चली इस नूरानी महफ़िल के बाद हुज़ूर अमीन-ए-शरीअत, हुज़ूर ताजुश्शरीआ के कुल शरीफ कि रसम अदा कि गई और हज़रत अब्दुल हसीब नूरी व दीगर बुज़ुर्गों की फ़ातिहा हुई। आख़िर में नबीरा-ए-आला हज़रत मौलाना अदनान रज़ा क़ादरी ने ख़ुसूसी दुआ फ़रमाई। युवा राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना अब्दुल्लाह रज़ा क़ादरी ने सलाम पेश किया। इस मौक़े पर  मोहम्मद अली फैजी आकिब इलाहाबादी नसीम बरकाती नईम अख्तर आलम बरकाती हमदम फैजी मौलाना सद्दाम ने नातों मनकबत पेश की। उर्स-ए-रज़वी के दूसरे दिन यानि 11 सितंबर को आरएसी की टीमें दिनभर चादरों के जुलूस लेकर दरगाह आला हज़रत पहुँचेंगी। ये सभी जुलूस ख्वाजा कुतुब स्थित आरएसी मुख्यालय “बैतुर्रज़ा” होते हुए दरगाह आला हज़रत पहुँचेंगे। उर्स के दौरान व्यवस्था बनाए रखने के लिए आरएसी ने 1786 वॉलन्टीयर्स मुस्तैद किए हैं। ये वॉलन्टीयर्स बाहर से आने वाले अक़ीदतमंदों की मदद करने के साथ-साथ ज़िले के कोने-कोने से आने वाले जुलूसों को दरगाह तक पहुँचने में भी सहयोग कर रहे हैं। इस मौके पर हाफीज़ इमरान रज़ा अब्दुल हलीम खान अब्दुल लतीफ कुरैशी ताज खान रजब अली साजू हनीफ रज़ा अजहरी सईद सिब्तैनी रेहान यार खान अमिक रज़ा मुजफ्फर अली सय्यद रिज़वान मोहम्मद चांद मोहम्मद यूसुफ यासीन गद्दी जाहिद अली  गद्दी आफताब हुसैन बाबुउद्दीन बब्बू गद्दी महबूब खान हाफिज आरिफ साहिल रज़ा अनवर हुसैन फुरकान रज़ा शोएब रज़ा मोईद रज़ा शारिक रज़ा रिज़वान रज़ा इशाकत अल्वी। दानिश रज़ा उज़ैफ रज़ा उस्मान रज़ा मौलाना बाबुउद्दिन मौलाना सय्यद तौकीर रज़ा मौलाना सफदर अली दिलशाद रज़ा सय्यद मुज्जफर अली फैजान रज़ा उवैस रज़ा मोहम्मद सरताज शहरोज रज़ा यामीन खान तहजीम रज़ा अरबाज़ खान अदील शेख रज्जाक खान फहीम खान राशिद रज़ा सुहैल शेख मजहर खान सलमान खान जाहिद रज़ा आरिफ खान सहित बड़ी तादाद में आरएसी कार्यकर्ता वा पदाधिकारी मौजूद रहे।

मौलाना अदनान रज़ा कादरी नायब सदर ऑल इंडिया रज़ा एक्शन कमेटी आरएसी हनीफ रज़ा अजहरी दरगाह आला हज़रत बरेली शरीफ यूपी

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

विधायक अताउर्रहमान के भाई नसीम उर्रहमान हज सफर पर रवाना