गांधी परिवार उस किस्म का नहीं है, जो मीठी-मीठी बातें बोलकर वोट ले ले: सांसद वरुण गांधी*

पौधारोपण और जनसंवाद कार्यक्रम के लिए एक दिवसीय दौरे पहुंचे थे सांसद वरुण गांधी* 

बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए पीलीभीत से शाहिद खान की रिपोर्ट*

पीलीभीत। एक दिवसीय दौरे पर आये सांसद वरुण गाँधी ने जनसंवाद कार्यक्रम में राजा और गायक की कहानी सुनाते बिना नाम लिए तंज कसा। सांसद ने कहा कि राजा के पास एक गायक आया और बहुत सुंदर गीत सुनाया, जिस पर राजा ने उसे एक बीघा जमीन देने की घोषणा कर दी। इस पर गायक को लालच आ गया और वह कई गाने सुनाये। गायक जैसे-जैसे गीत सुनाता गया राजा ने सोना, जमीन, महल आदि देने की


घोषणा कर दी। गायक काफ़ी ख़ुश हुआ और घर जाकर पत्नी को सारी बातें बताई, तो पत्नी भी खुश हो गईं। लेकिन काफ़ी दिन बाद भी ज़ब इनाम नहीं मिला तो गायक राजा के पास गया और पूछा। इस पर राजा ने कहा काहे का उपहार, आपने हमारे कान खुश किए मैंने आपके कान खुश कर दिए। इसमें लेनदेन की बात कहा से आ गईं। सांसद ने कहा कि गांधी परिवार उस किस्म का नहीं है, जो आपको मीठी-मीठी बातें बताकर आपका वोट चोरी कर ले। सांसद ने कहा मैं भले कड़वी बात बोलू, लेकिन बोलूंगा हमेशा सच। मैं वह व्यक्ति नहीं हूं जो केवल झूठा ड्रामा करके आपका वोट लेकर चला जाऊं।

सांसद वरुण गाँधी सोमवार को एक दिवसीय दौरे पीलीभीत पहुंचे। खमरिया पुल पर कार्यकर्ताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया। इसके बाद सांसद नगर क्षेत्र के राजघाट पार्क, कृष्णालोक व मरौरी ब्लॉक के पीराताल में पौधारोपण कार्यक्रम में पहुंचे और फलदार पौधे लगाए। सांसद ने स्वस्थ पर्यावरण के लिए लोगों से ज्यादा से ज्यादा पौधे लगाने के लिए जोर दिया। उसके बाद सांसद वरुण गांधी ने ग्राम पीराताल, मोहम्मदगंज, सैजना, गोयल कॉलोनी, महुआ, जमुनिया, इग्घरा आदि ग्रामों में जनसंवाद कार्यक्रम को सम्बोधित किया। सांसद ने बेरोजगारी का मुद्दा उठाते हुए कहा कब तक हमारे बच्चे पलायन कर ईंट भट्टो पर काम करेंगे। सरकार को इस पर सोचना चाहिए। बड़े-बड़े शहरों बड़े-बड़े नगरों में रोजगार है, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसा कुछ नहीं है। सरकार को उद्योगपतियों से निवेदन करना चाहिए कि ग्रामीण क्षेत्रों में कारखाने लगाए, ताकि यहां के लोगों को काम मिले। लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है।

सांसद ने सिक्खों की तारीफ करते हुए कहा कि सिक्खों ने देश के लिए काफ़ी बलिदान दिए हैं, अपना खून बहाया, लेकिन दुःख होता ज़ब उनको अपने अनाज की सुरक्षा के लिए कई जाने गंवानी पड़ी। तब हमने आवाज उठाई। आपने हमें संसद इसलिए भेजा था, ताकि मैं आपकी लड़ाई लड़ सकूं।

आप लोग अपने आपको गिरवी न रखे: सांसद 

-सांसद ने कहा कि आप लोग किसी को भी वोट दें, लेकिन भेड़ चाल जैसा काम न करें। अपना दिमाग लगाए। कोई आए और नारे बोल दे और आप उसे वोट दे दें, ऐसा न करें। अगर आपने ऐसा किया तो आपकी गिनती भी वैसी होगी जैसे मनुष्य सिर्फ एक संख्या है। सांसद ने कहा मैं नहीं चाहता हूं कि आप संख्या बने। मैं चाहता हूं कि हर एक व्यक्ति की अपनी पहचान हो, उसकी एक सोच हो, एक समाज हो। सांसद ने कहा कि अगर मैं गलती कर रहा हूँ तो आप हां में हां न मिलाएं,मुझसे भी सवाल करें, जो भी करें अपने चैतन्य से करें। अपना विवेक इस्तेमाल करें। किसी को गिरवी मत रखो। 


पीलीभीत का रिश्ता एक पवित्र संगम कि तरह है: सांसद 

जनसंवाद कार्यक्रम के दौरान सांसद ने कहा कि यह गांव बहुत बड़ा तो नहीं है, लेकिन इस गांव का दिल एक समुद्र से भी ज्यादा बड़ा है। मैं इतना ही कहना चाहता हूं कि हमारा पीलीभीत लोकसभा का रिश्ता एक पवित्र संगम की तरह है। हम जहां भी जाते हैं, तो लोग हमसे पूछते हैं कि पीलीभीत कैसा है। पीलीभीत के लोग कैसे हैं। यह पहचान दिलाने के लिए यहां जितने भी लोग बैठे हैं, सबका योगदान है। मुझे और मेरे परिवार को खड़ा करने के लिए आप सभी का काफ़ी योगदान है। इसलिए मैं भी आपके लिए हमेशा तत्पर हूं। आपको कहीं भी किसी भी प्रकार की जरूरत हो बताएं। मेरी मां ने 30 साल सेवा की, मैं भी सेवा कर रहा हूँ, लेकिन परिवार की तरह।


कार्यक्रम में इनकी रही मौजूदगी

कार्यक्रम के दौरान एडीएम रामसिंह गौतम, सीडीओ धर्मेंद्र प्रताप सिंह, डीएफओ संजीव कुमार के अलावा  सांसद सचिव कमलकांत, कार्यालय प्रभारी दीपक पाण्डेय, राम नरेश वर्मा, सतेंद्र वर्मा, नन्हे लाल कश्यप, जगदीश लोधी, बबलू वर्मा, राजेश वर्मा, प्रेमशंकर वर्मा, नरेश राठौर, बालकराम वर्मा, सुरेश श्रीवास्तव, जसवंत लोधी, रविंद्र प्रताप सिंह, सूरज शुक्ला, रमेश लोधी, सर्वजीत सिंह छब्बा, सुमित सक्सेना, अटल वाल्मीकि,  वतनदीप मिश्रा, पवन मिश्रा, जगन्नाथ, प्रकाश शर्मा, प्रमोद पटेल आदि मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

विधायक अताउर्रहमान के भाई नसीम उर्रहमान हज सफर पर रवाना

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र