वरुण गांधी ने अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 5 ट्रिलियन इकोनॉमी वाले सपने पर खड़े किए सवाल।

बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए मुस्तकीम मंसूरी की रिपोर्ट,

वरुण गांधी का BJP के खिलाफ बगावती सुर हुआ तेज, मां मेनका गांधी के लिए भी खड़ी कर सकते हैं मुश्किल, 

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत से बीजेपी सांसद वरुण गांधी का पार्टी के खिलाफ बगावती सुर फिर एक बार तेज होते जा रहा है। बीते कुछ दिनों से उनके पार्टी लाइन फॉलो करने की अटकलें चलने लगी थी लेकिन फिर इस महीने उन्होंने बगावती सुर अलापना शुरू कर दिया है। बीजेपी सांसद ने इस पर पीएम नरेंद्र मोदी के 5 ट्रिलियन इकोनॉमी वाले सपने पर ही सवाल खड़े कर दिए हैं।

दरअसल, वरुण गांधी का अंग्रेजी न्यूज पेपर द हिंदू में एक लेख छपा है। इस लेख के जरिए उन्होंने 5 ट्रिलियन इकोनॉमी के साथ सामाजिक सुरक्षा को जोड़कर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा, 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था तक पहुंचने से पहले एक कल्याणकारी राज्य जरूरी है। भारत के लगभग 91% यानी 475 मिलियन लोग बिना किसी सामाजिक सुरक्षा के अनौपचारिक रूप से काम करते हैं। करीब 53% सैलरी पाने वाले कर्मचारियों के पास कोई भी सोशल सिक्यूरिटी नहीं है।


बीजेपी सांसद ने आगे लिखा, दुनिया में भारत की सोशल सिक्यूरिटी के मामले में रैंकिग काफी खराब है। हम 2021 में 43 देशों में 40वें नंबर पर थे। भारत में पॉलिसी बनाने वाले ही सोशल सिक्यूरिटी का बिल्कुल ध्यान नहीं रखते हैं। बजट के दौरान भी इसपर सीमित खर्च किया जाता है। हालांकि इससे पहले मंगलवार को उन्होंने एक वीडियो शेयर किया था, जिसमें फिर वो सरकार की योजनाओं पर सवाल खड़े करते नजर आए।

वीडियो में वरुण गांधी कह रहे हैं, अग्निवीर हो, बेरोजगारी का मुद्दा हो या किसान आंदोलन हो, चाहे जो भी मुद्दा हो जिससे मुझे लगे कि समाज के अंतिम व्यक्ति का इससे लाभ है तो उसका नुकसान नहीं होना चाहिए। एक हिंदुस्तान जिसमें अमीर को सारे पूरे-पूरे अवसर प्राप्त हैं और दूसरा हिंदुस्तान जिसमें एक आम आदमी का संघर्ष निरंतर है। मैं संघर्ष के खिलाफ नहीं हूं, लेकिन मैं चाहता हूं कि ऐसा हिंदुस्तान बने कि जिसमें हर इंसान को अवसर की प्राप्ति की कमी न हो।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उज़मा रशीद को अपना बेशकीमती वोट देकर भारी बहुमत से विजई बनाएं

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश