हाईटेंशन बिजली तार के चपेट में आने से खेतको में घटित 4 लोगों की मृत्यु,एवं 9 लोगों के घायल होने की घटना ट्रांसमिशन लाइन के नियम के अनुकूल हाईटेंशन लाइन का न होना तथा विद्युत आपूर्ति निगम के भारी अव्यवस्था का परिणाम है।

झारखंड :     हाईटेंशन बिजली तार के चपेट में आने से खेतको में घटित 4 लोगों की मृत्यु,एवं 9 लोगों के घायल होने की घटना का  उपर्युक्त का उल्लेख करते हुए भाकपा-राजद जन अभियान के संयोजक एवं झारखंड आंदोलनकारी इफ्तेखार महमूद ने संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए बतलाया की 11,000 हाईटेंशन का तार बिना कोभर का घनी आबादी वाला खेतको गांव से गुजरा है। "सूचना न होने की" बात कह कर  जेबीवीएनएल प्रबंधन अपनी लापरवाही को छुपा नहीं सकती हैं। आबादी वाले इलाका में हाईटेंशन तार  में कभर होना चाहिए किंतु खेतको मे तार में कभर नहीं लगा हुआ है और तार जमीन से 13 फीट से भी कम ऊंचाई पर है। उन्होंने कहा कि एक तो गांव से बिना कभर वाला  हाईटेंशन तार को गुजारना नहीं है और तार की ऊंचाई किसी भी दशा में 20 फीट से अधिक होनी चाहिए। श्री महमूद ने बतलाया कि हाईटेंशन तार अपने निर्धारित नियम के अनुरूप होता तो 4 लोगों का जान जाने वाली उपर्युक्त घटना होती ही नहीं।


             श्री महमूद ने बतलाया कि जेबीवीएनएल के उच्चाधिकारी, जनता की शिकायतों को तो छोड़िए, फील्ड के अभियंताओं की भी सूचना पर कार्रवाई नहीं करते हैं और इसी कारण बिजली से कोई न कोई घटनाएं निरंतर घटते रहती है। गोमिया के डाकासाडम में हाईटेंशन तार करीब 10 फीट की ऊंचाई पर है, कसमार के सिंहपुर के तेली टोला में वर्षा होने पर ग्रामीणों के घरों के दीवार व जमीन में करंट प्रवाहित हो जाता है, साडम के इस्लाम टोला में बिजली के तार के टूटकर गिरने से मचान में रखी पुवाल में आग लगने की घटना विगत दिनों हो चुकी है। उपर्युक्त तमाम मामलों की लिखित सूचना सक्षम अधिकारियों को दी जाती रही है, किंतु जेबीवीएनएल के चास अंचल के प्रबंधन द्वारा कोई संज्ञान नहीं दिया जा रहा है। श्री महमूद ने कहा कि उपर्युक्त जानलेवा अव्यवस्था के संबंध में बार-बार के रिमाइंडर के बाद भी जेबीवीएनएल फ्लाइट मोड में है।श्री महमूद ने कहा कि ट्रांसमिशन लाइन के मानदंडों का अवहेलना के विरोध में तथा  खेतको में हाईटेंशन तार से मृत श्री इनामुल उम्र 38 वर्ष, मोहम्मद ताजीर उम्र 25 वर्ष, आशिक 22 वर्ष एवं गुलाम 16 वर्ष को तथा घायलों को समुचित मुआवजा का अविलंब भुगतान करने और जिन जिन गांव में विद्युत लाइन, खंभा, जर्जर है तथा हाईटेंशन तार ऊंचाई पर नहीं है-उसे 10 दिनों के अंदर यदि रिप्लेस नहीं किया गया तो दिनांक 12 अगस्त को पेटरवार में एनएच पर सामूहिक धरना दिया जाएगा।


             संवाददाता सम्मेलन में राजद के अरुण यादव, भाकपा के सहायक अंचल सचिव अनवर रफी, इंसाफ के जिला सचिव खुर्शीद आलम तथा शाने रजा उपस्थित थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उज़मा रशीद को अपना बेशकीमती वोट देकर भारी बहुमत से विजई बनाएं

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश