पूरनपुर में श्रम विभाग ,चाइल्ड लाइन, एवं एएचटीयू की संयुक्त टीम द्वारा बालश्रम के विरुद्ध अभियान चलाया गया*

बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए पीलीभीत से शाहिद खान की रिपोर्ट*

 जिसके अन्तर्गत पूरनपुर में दुकानों, ढाबों,रेस्टोरेंट आदि स्थानों पर छापे मार कर कुल 09बाल/  किशोर श्रमिक चिन्हित किये गए। 14 वर्ष से नीचे काम करने वाले 5 बालश्रमिकों को प्रतिष्ठान से मुक्त कराया गया तथा 4 किशोरों से काम लेने वाले सेवायोजकों के विरूद्ध निरीक्षण टिप्पणी जारी कर आवश्यक कार्यवाही की गई। 14 वर्ष से कम उम्र के अवमुक्त कराए गए 5 बच्चों को वर्चुअल रूप से बाल कल्याण समिति के समक्ष प्रस्तुत किया गया। खतरनाक प्रक्रिया के अंतर्गत 

दोषी पाए जाने वाले सेवायोजकों के विरूद्ध दो वर्ष तक की सजा या 50000/ रूपए तक का जुर्माना या दोनों से दण्डित किया जा सकता है, तथा गैर खतरनाक प्रक्रिया के अंतर्गत दोषी पाए जाने पर सेवायोजक को एक माह तक की सजा या 20000/ रूपए तक जुर्माना या दोनों से दण्डित किया जा


सकता है। यदि कोई माता पिता भी अपने बच्चों को व्यवसायिक कार्य में संलग्न करेगा तो उनके विरूद्ध भी दंडात्मक कार्यवाही अपनाई जायेगी।

रेस्क्यू अभियान में श्रम प्रवर्तन अधिकारी घनश्याम वर्मा, श्रम  प्रवर्तन अधिकारी प्रियंका वर्मा, चाइल्डलाइन जिला कोआर्डिनेटर निर्वान सिंह, एएचटीयू से प्रभारी निरीक्षक  राजीव कुमार शर्मा, कनिष्ठ सहायक रविन्द्र कुमार सागर, भानुप्रताप, सुनीता, अक्षय  आदि मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती उजमा आदिल की हार की समीक्षा

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

विधायक अताउर्रहमान के भाई नसीम उर्रहमान हज सफर पर रवाना