मरहूम वालिद की दुआ। बेटी की कविता

 मरहूम वालिद की दुआ। बेटी की कविता


वो कहते थे,

तू सबसे हंसी है, तू सबसे अलग है।

मेरी बेटी तू दुनिया में आई है मेरे लिए।

वरना तेरी जगह फलक है।

तेरी जो उनगली है खिलती कमल की कलियां, महकेंगी तेरे दम से

मेरे दरवाजो की गलियां।

वो कहते थे ... मेरी बेटी.. .वरना.

तेरी इज्जत पे कभी आंच ना आए।

तेरा बिगडे मुकद्दर तो भी तू न डगमगाये

जरूरत पडे से आसमान को झुकना

वो कहते थे,तू खेले हमेंशा खुशियों की रंगरलिया ये है मेरे वालिद

की बातिया रूलाती है मुझको यादों में अखिन्या।

ये सच है आई थी तुम्हारे लिए।

पता था किसको, की हम दोनो की जगह तो अलग है।

वो कहते थे.... मेरी बेटी.....वरना....


इशरा नाज़

पिता - अब्दुल कय्यूम

बहेडी, फरीदपुर


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत

पीलीभीत सदर तहसील में दस्तावेज लेखक की गैर मौजूदगी में उसका सामान फेंका, इस गुंडागर्दी के खिलाफ न्याय के लिए कातिब थाना कोतवाली पहुंचा*