वानमबाड़ी में नौ दिवसीय उर्दू पुस्तक मेले का समापन – 9 दिनों में 45 लाख पुस्तके बिकीं वानमबाड़ी से उर्दू के विकास का नया इतिहास रचा गया है :- प्रोफेसर शेख अकील अहमद

संवाददाता द्वारा 

 वानमबाड़ी: दक्षिणी भारत का प्रसिद्ध शैक्षिक और सांस्कृतिक नगर वानमबाड़ी में उर्दू भाषा को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रीय उर्दू परिषद के तत्वावधान में और वानमबाड़ी मुस्लिम एजुकेशनल सोसाइटी के सहयोग से आयोजित शानदार 25वां राष्ट्रीय उर्दू पुस्तक मेला आज संपन्न हुआ। समापन समारोह की अध्यक्षता परिषद निदेशक प्रोफेसर शेख अकील अहमद ने की। इस अवसर पर उन्होंने अपने अध्यक्षीय भाषण में वानमबाड़ी के उर्दू प्रेमियों की उर्दू से अपार लगाव को नमन करते हुए कहा कि वानमबाड़ी के लोगों को उर्दू से अपार स्नेह और प्यार को देखते हुए मेरा मन गद गद हो गया इस वामांबाड़ी के उर्दू प्रेमी द्वारा उर्दू को बढ़ावा देने में एक नया इतिहास रचा है।


उन्होंने कहा कि मेला व्यावसायिक दृष्टि से भी काफी सफल रहा। वानमबाड़ी जैसे छोटे शहर में पैंतालीस लाख की किताबें बिकी हैं, जो बड़े शहरों में ढाई करोड़ के बराबर है। उन्होंने कहा कि यहां आकर मुझे लगा कि यहां के युवाओं, छात्रों, विशेषकर वानमबाड़ी की महिलाओं में उर्दू के लिए अपार प्रेम है। यह भूमि उर्दू भाषा के लिए बहुत उपजाऊ है और ऐसे शहर और लोगों के साथ उर्दू कभी खत्म नहीं हो सकती। हो सकता है, उसका दायरा दिन-ब-दिन बढ़ता जाएगा और उर्दू की नई-नई बस्तियां बसती रहेंगी। उन्होंने सामान्य रूप से तमिलनाडु और विशेष रूप से वणमबाड़ी में उर्दू भाषा के विस्तार और प्रसार के लिए राष्ट्रीय उर्दू परिषद की सभी योजनाओं के कार्यान्वयन की घोषणा की। इस अवसर पर उन्होंने वणमबाड़ी मुस्लिम एजुकेशनल सोसाइटी के सभी पदाधिकारियों और सदस्यों को मेले के आयोजन में उनके विशेष योगदान के लिए धन्यवाद दिया और समारोह में सोसाइटी के उपाध्यक्ष पटेल मुहम्मद यूसुफ को एक मोमेंटो भी भेंट किया तथा स्थानीय मीडिया के अधिकारी, समाचार पत्रों के संपादक और प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के प्रतिनिधि और पुस्तक मेले में भाग लेने वाले सभी उर्दू प्रेमी गतिविधियों के व्यापक कवरेज के लिए आभार व्यक्त किया।

इस आयोजन के सम्मानित अतिथि त्रिपुर जिले के कलेक्टर श्री अमर कुशवाहा ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि उर्दू बहुत प्यारी भाषा है क्योंकि यह दिलों को जोड़ती है। उर्दू का कोई मजहब नहीं होता, यह अपने आप में एक मजहब है, जिससे हर मजहब के लोग जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि आज के विकास के दौर में हमें एक भाषा तक सीमित नहीं रहना चाहिए, हमें ज्यादा से ज्यादा भाषाएं सीखनी चाहिए, हम जितनी ज्यादा भाषाएं सीखेंगे, वे हमारे व्यक्तित्व को उतना ही निखरेगी एवं ननउर्दु भाषियों को प्रभावित करेंगी। उन्होंने भाषा और साहित्य के स्वाद को विकसित करने में पुस्तक मेलों की भूमिका को असाधारण बताते हुए कहा कि राष्ट्रीय उर्दू परिषद और स्थानीय प्रशासन की यह पहल सराहनीय है।

चेन्नई से आए आईपीएस शकील अख्तर ने अपने उद्बोधन में पुस्तक मेले के अकादमिक और सांस्कृतिक महत्व को बताते हुए कहा कि व्यक्ति की पहचान उसके दोस्तों और किताबों से होती है। जब तक ऐसे लोग और ऐसे क्षेत्र रहेंगे, तब तक उर्दू रहेगी और विकसित होती रहेगी।

इससे पहले, आयोजन की शुरुआत में इस्लामिया कॉलेज वणमबाड़ी के प्राचार्य डॉ. टी मुहम्मद इलियास ने इस पुस्तक मेले में प्रस्तुत सभी कार्यक्रमों के बारे में अपनी प्रतिक्रिया दी। हादी पब्लिकेशन्स हैदराबाद के प्रमुख अब्दुल बासित शकील ने मेले के बारे में अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि इस मेले ने न केवल तमिलनाडु बल्कि पूरे दक्षिण भारत में उर्दू के बारे में जागरूकता की एक नई लहर पैदा की है। प्रबंधन के अलावा यह मेला व्यावसायिक रूप से भी काफी सफल रहा, जिसके लिए राष्ट्रीय उर्दू परिषद और वीएमई सोसायटी के पदाधिकारी बधाई के पात्र हैं। उन्होंने परिषद के निदेशक प्रोफेसर शेख अकील अहमद और वानमबाड़ी मुस्लिम एजुकेशनल सोसाइटी के अध्यक्ष को अपने संगठन की ओर से एक स्मरणीय मोमिन्टो भी भेंट किया।

इम्तियाज खलील ने अपनी टिप्पणी में कहा कि वणमबाड़ी पुस्तक मेला अपनी असाधारण विशेषताओं के कारण जीवन भर हमारे मन में जीवित रहेगा। इस त्योहार के साथ ही यहां उर्दू और तमिल के मेल के लिए प्यार और मोह का एक नया युग शुरू हो गया है।

 इस अवसर पर मेले के दौरान आयोजित विभिन्न शैक्षणिक एवं सांस्कृतिक प्रतियोगिताओं में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को नगद राशि एवं प्रमाण-पत्र से सम्मानित किया गया, जबकि उत्कृष्ट पुस्तकों के संग्रह को परिषद द्वारा हाडी प्रकाशन हैदराबाद एवं सर्वश्रेष्ठ को पुरस्कृत किया गया। डिस्प्ले अवार्ड मिल्ली पब्लिकेशन्स दिल्ली को दिया गया।

इससे पूर्व सुबह के प्रथम सत्र में विभिन्न महाविद्यालयों के छात्र-छात्राओं के बीच विज्ञान प्रदर्शनी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें उन्होंने अपने व्यावहारिक वैज्ञानिक प्रयासों को बड़ी कुशलता के साथ प्रदर्शित किया। अंत में, वीएमई सोसायटी के सचिव गनी मुहम्मद अजहर ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया और सोसायटी के उपाध्यक्ष और इस पुस्तक मेले के संयोजक श्री पटेल मुहम्मद यूसुफ ने समापन समारोह के आयोजन में निष्ठापूर्ण अपने कर्तव्यों का पालन किया। इस ऐतिहासिक पुस्तक मेले का औपचारिक समापन एक सुंदर गजल “सराय” के साथ किया गया।

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बरेली के बहेड़ी थाने में लेडी कांस्‍टेबल के चक्‍कर में पुलिस वालों में चलीं गोलियां, थानेदार समेत पांच पर गिरी गाज

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

लोनी नगर पालिका परिषद लोनी का विस्तार कर 11 गांव और उनकी कॉलोनियों को शामिल कर किया गया