दिवंगत श्रमिक नेता स्वर्गीय श्री शफीक खाॅ का 18वीं पुण्यतिथि का साड़म स्थित भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी कार्यालय में श्रद्धांजलि समारोह का आयोजन किया गया।

 दिवंगत श्रमिक नेता स्वर्गीय श्री शफीक खाॅ का 18वीं पुण्यतिथि का साड़म स्थित भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी कार्यालय में श्रद्धांजलि समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता पार्टी के अंचल सचिव सोमर मांझी ने किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कम्युनिस्ट पार्टी के नेता एवं झारखंड आंदोलनकारी इफ्तेखार महमूद ने स्वर्गीय खान साहब को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि रामकृष्ण परमहंस और स्वामी विवेकानंद के अतिरिक्त महात्मा गांधी द्वारा पालन किए जाने वाला सर्व धर्म समभाव का स्वर्गीय सफीक साहब प्रतीक थे। खान साहब के एक हाथ में बजरंगबली का गोदना से उपर्युक्त बात की पुष्टि होती है। आज स्वर्गीय खान साहब की सबसे ज्यादा जरूरत महसूस हो रही है।





श्री महमूद ने कहा कि अंग्रेजों ने फूट डालो और राज करो का काम किया था किंतु आज अंग्रेजी हुकूमत तो नहीं है, तो फिर भारतवासियों में फूट डालने का काम कौन कर रहा है। उन्होंने कहा कि सत्ता के संरक्षण में धर्म के आधार पर देशवासियों को बांटने का काम किया जा रहा है ।उन्होंने धार्मिक घृणा फैलाने के मामले में उच्चतम न्यायालय द्वारा सिर्फ उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश और दिल्ली को ही नोटिस करने के मामले का भी जिक्र किया। श्री महमूद ने भाजपा को जिन्ना के नेतृत्व वाली मुस्लिम लीग का हिंदी संस्करण बतलाया।

                   कार्यक्रम को सोमर मांझी एवं समीर कुमार हालदार ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर मुकुंद साव, बीरबर हांस्दा, गेंदों केवट, अनवर रफी, देवानंद प्रजापति, चमन केवट , अशरफ अंसारी , खुर्शीद आलम, दिलबर केवट, महेश केवट,सरिता देवी, मुन्नी देवी, इत्यादि लोग मुख्य रूप से उपस्थित थे।

  फोटो कार्यक्रम को संबोधित करते हुवे इफ्तेखार महमूद।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत

पीलीभीत सदर तहसील में दस्तावेज लेखक की गैर मौजूदगी में उसका सामान फेंका, इस गुंडागर्दी के खिलाफ न्याय के लिए कातिब थाना कोतवाली पहुंचा*