भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी गोमिया अंचल के द्वारा साडम बाजार में आमसभा करके बेलगाम महंगाई पर रोक लगाने तथा खाली पदों पर अभिलंब नियुक्ति के लिए अभियान की शुरुआत की

सभा साडम के कोरोना बाजार में सम्पन्न हुआ। सभा की अध्यक्षता ठेकेदार मजदूर यूनियन के उप महासचिव समीर कुमार हालदार ने किया। सभा को संबोधित करते हुए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी राज्य कार्य समिति के सदस्य एवं झारखंड आंदोलनकारी इफ्तेखार महमूद ने कहा कि लगातार बढ़ रही महंगाई से निम्न एवं मध्य वर्ग के लोगों की कमर टूट गई है, जीवन यापन दूभर हो गया है। उन्होंने कहा कि सिर्फ खाद्य सामग्रियों के दामों में ही नहीं, बल्कि उपयोग की सभी चीजों के दाम काफी बढ़ा दिये गये हैं। कपड़े, साइकिल, स्पेयर पार्ट्स, दवाइयां, कॉपी, किताब, पेन, पेंसिल, स्टेशनरी के समान, महिलाओं के लिए आवश्यक सिंगार के सामान- जैसे सिंदूर चूड़ी, बर्तन, हवाई चप्पल, जूता इत्यादि हर सामानों के दामों में डेढ़ से दोगुना वृद्धि हो गई है।

श्री महमूद ने कहा कि एक तरफ महंगाई बढ़ाई जा रही है और दूसरी तरफ रोजगार के अवसर घटाये जा रहे हैं। सांख्यिकी कार्य मंत्रालय के रिपोर्ट के अनुसार 2022 के प्रथम चार महीने में एक करोड़ से भी अधिक लोगों  का रोजगार समाप्त कर दी गई, जिसमें महिलाओं की संख्या 25 लाख की है। श्री महमूद ने महंगाई रोकने और सामानों का दाम घटाने के लिए राष्ट्रव्यापी आंदोलन पर बल दिया है।

सभा को संबोधित करते हुए पार्टी के जिला सचिव पंचानंन महतो ने महंगाई के खिलाफ और रोजगार के लिए राष्ट्रव्यापी चक्का जाम अभियान चलाने का सरकार को चेतावनी दिया। सभा को अंचल सचिव सोमर मांझी, सहायक सचिव देवानंद प्रजापति, समीर कुमार हालदार तथा बिरालाल किस्कू ने  संबोधित किया। सभा में आम लोगों के अलावा मुकुंद साव, राजेश करमाली, गेंदों केवट, धनेश्वर मांझी, खुर्शीद आलम,जितू सिंह, अशरफ अंसारी, दिलगर केवट, सुरेश प्रजापति, उर्मिला देवी मुख्य रूप से उपस्थित थे।

फोटो आम सभा को संबोधित करते इफ्तेखार महमूद।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग