वरिष्ठ पत्रकार मो ज़ुबैर की गिरफ्तारी के विरोध में ऑल पत्रकार एसोसिएशन यमुनापार व एसडीपीआई की संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस

नई दिल्ली (अनवार अहमद नूर)

पूर्वी दिल्ली की श्रीराम कॉलोनी में वरिष्ठ पत्रकार मोहम्मद ज़ुबैर  की गिरफ्तारी के विरोध में एसडीपीआई (सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया) व ऑल पत्रकार एसोसिएशन यमुनापार की संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस हुई। कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों ने अपने विचार रखते हुए कहा कि दिल्ली पुलिस ने मोहम्मद ज़ुबैर की गिरफ़्तारी बहाना बनाकर,सरकार के दबाव में की है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में  तय किया गया,कि जल्द ही जुबेर की आवाज़ को बुलंद करने के लिए दिल्ली के जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करेंगे और एसडीपीआई इस प्रदर्शन का समर्थन करेगी। कॉन्फ्रेंस की अध्यक्षता एसडीपीआईं के  दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर आई ए  खान व संचालन एसडीपीआई से दिल्ली प्रदेश के सचिव एच.एम.हाशिम मलिक ने किया। 
डॉक्टर आई ए खान ने कहा कि मोहम्मद ज़ुबैर की गिरफ्तारी सच्चाई को दबा नहीं सकती। हम किसी भी निर्दोष को फंसने नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि आज देश का  आपातकाल से ज़्यादा बुरा हाल है। सरकार किसी को भी गिरफ़्तार कर जेल में डाल देती है। उन्होंने भारतवर्ष की कई घटनाओं का ज़िक्र करते हुए कहा क़ि  सरकार क़ि नीयत और नीति में फ़र्क है।  उन्होंने नूपुर की गिरफ़्तारी न होने के सवाल पर कहा कि इसकी वजह से देश में कई घटनाएं घट गई। उन्होंने कहा क़ि एक तरफ देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी विदेशों में जाकर कहते हैं क़ि एमरजेंसी (आपात काल ) एक काला  धब्बा है वहीं सच्चाई को उजागर करने वाले पत्रकार को गिरफ्तार कराते  हैं। ऑल पत्रकार एसोसिएशन यमुनापार  के संयोजक व प्रेस रिपोर्टर यूनियन के उत्तर पूर्व ज़िले के अध्यक्ष शमशाद अली मसूदी ने कहा कि आज हम सब पत्रकारों को एकजुट होकर मोहम्मद ज़ुबैर की आवाज़ को बुलंद करना है। जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करना है। पुलिस व सरकारें, पत्रकारों पर लगातार जुल्म कर रही हैं।

और मौजूदा सरकारें सच्चाई को दबाना चाहती हैं। ऑल इंडिया रिपोर्टस एसोसिएशन के राष्ट्रीय महासचिव तासीम  अहमद का कहना है कि आज पत्रकार अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहा है। हम सब को एक आंदोलन चलाने की आवश्यकता है। मीडिया काउंसिल ऑफ इंडिया के महासचिव मौलाना अब्दुल रशीद का कहना था कि मौजूदा समय में पत्रकारिता करना मुश्किल हो गया है जिस तरह बाहर से  पत्रकारिता का पेशा बहुत अच्छा लगता है,अंदर से उतना ही कठिन वह कांटों भरा है। आज सरकारें व प्रशासन पत्रकारों को टारगेट करके उनको फंसाने का काम करते हैं। लेकिन सच्चाई को उजागर करते रहना हमारा परम धर्म है। इस मौके पर दैनिक शाह टाइम्स के पत्रकार इस्लाम खान, बुलंद संदेश से एजाज अली, प्रेस रिपोर्टर यूनियन के सदस्य कपिल ढाका,विश्व प्रेस संगठन के ज़िला सचिव शान मोहम्मद,एसडीपीआई के प्रदेश कोषाध्यक्ष फरीद अहमद,मोहम्मद, पत्रकार बबलू चक्रवती,फरीद अहमद, अनवर खान ,ललिता देवी, असलम अल्वी, अब्दुल रहमान आदि उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग