दिल्ली से अवैध डग्गामार बसें बेरोकटोक रोजाना जाती है उत्तर प्रदेश, यातायात पुलिस खामोश

 एस ए बेताब 

उत्तर पूर्वी दिल्ली जमुना पार के  विभिन्न क्षेत्रों से  अवैध डग्गामार बसें  बेरोकटोक  रोजाना उत्तर प्रदेश  जाती है  और उत्तर प्रदेश से दिल्ली आती है  दिल्ली से  इन बसों में  क्या-क्या माल सप्लाई किया जाता है  यदि इसका सही आंकड़ा  इकट्ठा किया जाए  तो आप यह जानकर  हैरान रह जाएंगे  इन बसों में  टैक्स की बड़े पैमाने पर चोरी की जा रही है  और इस चोरी में  दिल्ली यातायात पुलिस  की  बहुत बड़ी मिलीभगत बताई जाती है  सूत्रों का कहना है कि  प्रत्येक चेकप्वाइंट  इनको  मई महीना देना पड़ता है  और इस नजर आने के तौर पर ही इन बसों को बेरोकटोक जलाया जाता है । शास्त्री पार्क मछली मंडी,जग प्रवेश चंद्र हॉस्पिटल के आस पास बनी पार्किंग, जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के पास , जनता कोलोनी पीली मिट्टी, बाबरपुर टर्मिनल के पास, कर्दमपुरी की पुलिया, खजूरी में पुराने थाने के पास अनेकों जगहें ऐसी हैं


जहां से दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की मेहरबानी से अवैध डग्गामार बसें यूपी के विभिन्न ज़िलों और शहरों को प्रतिदिन जाती हैं।
 दिल्ली से लाखों रुपये की टैक्स की चोरी कर सामान इन बसों में ले जाया जाता है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यह सवारी बसें हैं मगर इनमें सवारी नाम मात्र को ही दिखती हैं। सवारी के पर्दे में इनका असल कारोबार सेल टेक्स की चोरी है, इस चोरी से रोज़ाना दिल्ली सरकार एवं उत्तर प्रदेश सरकार और भारत सरकार को लाखों रुपये का चूना लगाया जाता है। बसों में जो माल जाता है उस माल का कोई पक्का बिल  नहीं होता है , सवारी बस समझकर सेल टैक्स वाले भी इनको चेक नहीं करते, यह सारा काम  दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की मेहरबानी से खुलेआम दिन और रात चल रहा है। शास्त्री पार्क में मछली मंडी के पास दो-दो एमसीडी की पार्किंग है दोनों में दर्जनों गाड़ी सुबह से शाम तक बल्कि देर रात तक आती जाती रहती हैं।पास ही में ट्रैफिक पुलिस का बूथ है जहां हर वक़्त सिपाही मौजूद रहते हैं लेकिन उनको यह अवैध डग्गामार गाड़ियां नजर नहीं आती। इसी तरह जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के नीचे थाना वेलकम के अंतर्गत आने वाली जनता कॉलोनी पीली मिट्टी पर पूरा बस अड्डा बना हुआ है। वहां कई लोग ऑफिस खोल कर बैठे हैं और बोर्ड लगाकर धड़ल्ले से बसों को संचालित कर रहे हैं।

यहां की बसों में सेल टेक्स चोरी किया हुआ लाखों रुपए का सामान लेजाया जाता है लेकिन दिल्ली ट्रैफिक पुलिस को अवैध रूप से चलने वाली यह गाड़ियां नजर नहीं आती। बाबरपुर मेट्रो स्टेशन के पास कर्दमपुरी की पुलिया पर भी दर्जनों गाड़ियां सुबह से शाम तक आती जाती हैं और लाखों का सामान इन गाड़ियों में लेजाया जाता है, यही हाल खजूरी के पुराना थाने के पास का भी है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग