वन महोत्सव पखवाड़े में लगभग 10 लाख पौधे लगाने का लक्ष्य तय किया गया है - गोपाल राय*

नई दिल्ली , 27 जून 2022 दिल्ली सचिवालय में आज पर्यावरण एवं वन मंत्री गोपाल राय की अध्यक्षता में दिल्ली में वृक्षारोपण को बढ़ावा देने को लेकर महत्वपूर्ण बैठक की गई | इस बैठक में वन विभाग के अधिकारी शामिल रहे | बैठक के दौरान दिल्ली में  हरित क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए 11 जुलाई से वन महोत्सव पखवाड़े की शुरुआत सेंट्रल रिज से करने का निर्णय लिया गया | और इसका समापन समारोह 25 जुलाई को असोला भाटी माइंस में 1 लाख से अधिक पौधों को लगाकर होगा । 


11 जुलाई  को दिल्ली के सभी 70 विधानसभाओ वृक्षारोपण महाअभियान की शुरुआत भी की जाएगी | इस वन महोत्सव पखवाड़े के दौरान लगभग 10 लाख पौधे लगाने का लक्ष्य तय किया गया है | दिल्ली के डिप्टी सीएम, कैबिनेट मंत्री और विधानसभा अध्यक्ष अलग-अलग जगहों में इस महा अभिायन का नेतृत्व करेंगे। साथ ही 2 जुलाई को कमला नेहरू रिज से निःशुल्क औषधीय पौधों के वितरण का भी शुभारम्भ किया जाएगा । पर्यावरण एवं वन मंत्री गोपाल राय ने बताया कि दिल्ली में निःशुल्क औषधीय पौधा वितरण का शुभारम्भ 2 जुलाई से कमला नेहरू रिज से किया जाएगा | इसके तहत लोगो को सरकारी नर्सरी से मुफ्त औषधीय पौधे बाटें जाएंगे ताकि दिल्लीवासी अपने अपने घरो में पौधे लगाकर दिल्ली के हरित क्षेत्र को बढ़ाने में अपनी सहभागिता दे सकें। प्रेसवार्ता में पर्यावरण एवं वन मंत्री गोपाल राय ने दिल्ली के लोगो से निवेदन किया कि दिल्ली को पर्यावरण क्षेत्र में विश्वस्तर पर आगे बढ़ाने के लिए सभी लोग अपनी सहभागिता दे | उन्होंने दिल्ली के लोगों से अपील कि की वह अपने उत्सव जैसे जन्म दिन, शादी की सालगिरह इत्यादि के अवसर पर वृक्षारोपण करें। इसके लिए दिल्ली सरकार की नर्सरी से लोगो को मुफ्त में पौधा मुहैया कराया जाएगा । इस अभियान से ना केवल दिल्ली के हरित क्षेत्र में वृद्धि होगी बल्कि भविष्य में प्रदूषण की समस्या से लड़ने का रोडमैप भी तैयार होगा |

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग