राम नवमी के पावन पर्व पर श्री राम कथा का एक दिवसीय आयोजन 10 अप्रैल 2022 दिन रविवार सायं 6:00 बजे होगा, अनुपम कपूर,

 बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए बरेली से मुस्तकीम मंसूरी की रिपोर्ट, 

भगवान श्री राम सारे विश्व के पूजनीय अवतार रहे हैं  श्री राम नाम से ही रामराज की कल्पना की जा सकती है, 

बरेली, 10 अप्रैल 2022 दिन रविवार सायं 6 बजे से कथा व्यास श्री अरविंद भाई ओझा जी द्वारा राम नवमी के पावन पर्व पर एक दिवसीय श्री राम कथा का आयोजन होना सुनिश्चित हुआ है। इसकी जानकारी माधव कृपा छात्रावास श्री रतन भट्टाचार्य जनकल्याण न्यास राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यालय वीर सावरकर नगर डेलापीर बरेली  कार्यालय पर देते हुए श्री राधे श्याम क्षेत्रीय छात्रावास प्रमुख पश्चिम उत्तर प्रदेश एवं अनुपम कपूर वरिष्ठ समाजसेवी बरेली ने पत्रकारों को बताया कि अरविंद भाई ओझा द्वारा राम कथा का श्रवण करके उनका संदेश संपूर्ण जगत तक पहुंचे जिस से आने वाली पीढ़ी को श्री राम के आदर्श को मानते हुए अपने परिवार को साथ लेकर चलने की प्रेरणा मिल सके।


इस संबंध में राधेश्याम क्षेत्रीय छात्रावास प्रमुख पश्चिमी उत्तर प्रदेश एवं अनुपम कपूर वरिष्ठ समाजसेवी ने बताया कि कथा व्यास श्री अरविंद भाई ओझा जी द्वारा राम नवमी के पावन पर्व पर एक दिवसीय श्री राम कथा का आयोजन होना सुनिश्चित हुआ है इस संबंध में आप से अनुरोध है कि श्री अरविंद भाई ओझा जी द्वारा राम कथा का श्रवण करके उनका संदेश संपूर्ण जगत तक पहुंचे जिससे हमारी आने वाली पीढ़ी को श्री राम के आदर्श को मानते हुए अपने परिवार को साथ लेकर चलने की प्रेरणा मिल सके और परिवारों में शांति सुख और सम्बृद्बि बनी रहे  और समाज में अच्छा संदेश पहुंचे भगवान श्री राम सारे विश्व के पूजनीय अवतार रहे है उन्होंने मर्यादा की रक्षा के लिए वह सदैव आगे रहे श्री राम संपूर्ण विश्व में राम राज करने वाले ऐसे महापुरुष हुए हैं कि जिनके नाम से ही रामराज्य की कल्पना की जा सकती है |

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

विधायक अताउर्रहमान के भाई नसीम उर्रहमान हज सफर पर रवाना

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र