मा कांशीराम साहब द्वारा बताए हुए रास्तों पर चलने वाली एकमात्र बहुजन मुक्ति पार्टी ही बहुजनों का हक अधिकार दिला सकती है--गादरे

मेरठ:-मा कांशीराम साहब की विचारधारा पर चलकर उनके द्वारा बताए हुए रास्तों पर चलने वाली एकमात्र बहुजन मुक्ति पार्टी ही बहुजनों का हक अधिकार दिला सकती है।  बहुजन मुक्ति पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी एवं मेरठ मंडल अध्यक्ष आर डी गादरे ने बहुजन नायक माननीय कांशीराम साहिब के 88वे जन्म दिवस के अवसर पर कहा कि प्रत्येक व्यक्ति बहुजन हिताय बहुजन सुखाय मिशन नही चल रहे हैं बल्कि बेवकूफ बनाकर उलझाने की कोशिश करने के लिए लगे हुए हैं। 





       बहुजन मुक्ति पार्टी के राजुद्दीन गादरे ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को समानता की समता बंधुता और न्याय पर आधारित राष्ट्र और समाज का निर्माण करने मे बहुजन मुक्ति पार्टी का साथ सहयोग देकर लोकतंत्र बचाने मे ही सबकी भलाई है। जिलाध्यक्ष ओमबीर सिंह ने कहा कि आज देश और लोकतंत्र खतरे में है दुश्मन हमारे बीच बहुजनो को बांटने का कार्य कर रहे हैं।  मेरठ मण्डल महासचिव कारी मोहम्मद इरफान ने कहा कि आज समानता स्वतंत्रता बंधुता और न्याय पर आधारित इस्लाम धर्म का दुष्प्रचार कर भारतीयो को गुमराह कर देश मे देशद्रोही लोग जाहिलियत से दलाली करने के लिए देश को खोखला कर रहे हैं। मा कांशीराम साहब का जन्मदिन पर बहुजन मुक्ति पार्टी के कार्यकर्ताओं पदाधिकारियों ने संकल्प लिया कि माननीय काशीराम साहब की विचारधारा को हम खत्म नहीं होने देंगे। बहुजन मुक्ति पार्टी देश की एकमात्र ऐसी पार्टी है जो माननीय कांशीराम साहब की विचारधारा को जीवित कर रही है और बहुजनों के हक अधिकार हिस्सेदारी लोकतंत्र को बचाने के लिए प्रयासरत है। कार्यक्रम में सोमनाथ सिंह विजेंद्र पाल रहीमुद्दीन अमजद अली मांगेराम सुरेश प्रजापति विनोद जाटव मनोज कुमार बालवीर की बलवीर सिंह गुर्जर चौधरी बिल्लू बादशाह महेश प्रजापति लल्लन सिंह यादव जसीम मुकेश सैनी सुनील सैनी मोहम्मद वाहिद कुरेशी अमजद अली अंसारी डॉक्टर ब्रजमोहन चंद्रपाल कश्यप विजय कश्यप आदि मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग