सुरक्षा की दृष्टि से पीलीभीत पुलिस द्वारा फ्लैग मार्च निकाला गया व गाड़ियों की चेकिंग की गई

बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए पीलीभीत से शाहिद खान की रिपोर्ट

पीलीभीत, पुलिस अधीक्षक पीलीभीत  दिनेश कुमार पी0 के निर्देशन में आज दिनांक  17/03/2022 को जनपद पीलीभीत के समस्त थानों की पुलिस द्वारा होली पर्व पर शांति व्यवस्था बनाये रखने के दृष्टिगत फ्लैग मार्च किया गया तथा बैरियर लगाकर संदिग्ध वाहनों की चेकिंग की गई, गौरतलब है एक अच्छे कप्तान की भूमिका को निभाते हुए आज पुलिस अधीक्षक पीलीभीत में फोर्स के साथ जो भूमिका दिखाइए। 






उसकी जनपद भर में प्रशंसा की जा रही है आपको बताते चलें इस बार दो त्यौहार होली और शबे ए बरात का एक ही दिन होना और उसके साथ सी जुम्मा यानी शुक्रवार का दिन कई मायनों में पुलिस अधीक्षक की परीक्षा का दिन माना जा रहा है ऐसे में कानून व्यवस्था को दुरुस्त रखना पुलिस प्रशासन के लिए एक कड़ी चुनौती के रूप में सामने था परंतु पुलिस अधीक्षक पीलीभीत दिनेश कुमार पी जो अपनी कार्यकुशलता के लिए पहचाने जाते हैं जिस विश्वास के साथ शासन ने पुलिस कप्तान को जनपद पीलीभीत पुलिस का नेतृत्व करने के लिए उनकी नियुक्ति की गई थी आज शासन की उस कसौटी पर खरा उतरने के लिए जिले की कानून व्यवस्था चाक-चौबंद रखकर दोनों समुदाय के त्योहारों को शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराना पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार पी के लिए किसी अग्निपरीक्षा से कम नहीं था आज पुलिस अधीक्षक पीलीभीत द्वारा जिस तरह जिले की पुलिस का नेतृत्व किया गया है उसके लिए पुलिस अधीक्षक की जितनी भी प्रशंसा की जाए वह कम है आज का पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में जो फ्लैग मार्च और बैरियर लगाकर संदिग्ध वाहनों और संदिग्ध लोगों की चेकिंग करना इस बात का इशारा करता है यह पुलिस अधीक्षक पीलीभीत के कुशल नेतृत्व में दोनों समुदाय के त्योहार शांतिपूर्ण तरीके से मनाए जाएंगे और शासन की मंशा के सबसे इससे अच्छी पुलिसिंग और क्या हो सकती है जिसकी आमजन में हर जगह चर्चा हो रही है

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग