हर स्तर पर सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ संघर्ष और सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखना और इसके लिए हर सतह पर प्रयास करना तंजीम ए इंसाफ का उद्देश्य - इफ्तेखार महमूद

रांची, देश की एकता और अखंडता को बनाए रखने के
लिए हर स्तर पर सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ संघर्ष 
और सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखना और इसके लिए
हर सतह पर प्रयास करना इसी उद्देश को मद्दे नजर
 रखते हुए 6 और 7 नवंबर 2013 को अलीगढ़ में देश
के विभिन्न राज्यों के बुद्धिजीवियों,सामाजिक कार्यकताओं 
और गरीब मजदूरों, किसान छात्रों और युवाओं के
लिए सेवा की भावना रखने वाले लोगों ने दलितों और जरूरतमंद व्यक्तियों के उत्थान के लिए एक तंजीम बनाने
का फैसला किया। और अखिल भारतीय तंजीम-ए-इंसाफ के नाम से एक समिति बनाई और शुरू से ही यह
तंजीम अपने उदेश्व के लिए लड़कर आगे बढ़ता रही है।

उपलब्धियां भी हासिल कर तंजीम अपने उद्देश्य
की ओर पूरी गति के साथ आगे बढ़ रही है। इस 
तंजीम का मुख्य उद्देश्य एकता, शिक्षा और संघर्ष
 है और यह तंजीम अपने उद्देश्य की प्राप्ति के लिए
संघर्ष करता थी और अपने उद्देश्य की प्राप्ति के लिए 
संघर्ष करती रहेगी। झारखंड में जब भी दलितों,
 असहायों, अल्पसंख्यकों पर अत्याचार हुआ है,
तंजीम ने इफ्तेखार महमूद के नेतृत्व में उस 
अत्याचार के खिलाफ जोरदार आवाज उठाई 
गई है। 
चाहे लातेहार में इम्तियाज, मो मजलूम, रामगढ़
 में मो अलीमुद्दीन अंसारी, या विश्व प्रसिद्ध
तबरेज अंसारी हत्याकांड इन सभी घटनाओं 
में दोषियों को दंडित करने और प्रभावितों
 को तत्काल सहायता प्रदान करने के लिए 
तंजीम ने आगे बढ़कर काम किया। वह मजदूरों 
की आवाज बने और उन्हें उनका हक दिलाया।
 इफ्तिखार महमूद की पहचान यह है कि वह 
हमेशा - हमेशा मजदूरों को उनका हक अधिकार
 दिलाने, गरीब असहाय मजदूरों, किसान युवाओं 
की आवाज बनने और उन्हें अधिकार दिलाने के 
लिए संघर्ष करते रहते है। संघर्ष ही इफ्तिखार 
महमूद की पहचान,मर्दाया और जीवन का 
उद्देश्य बन गया है। दूसरी ओर, अखिल भारतीय
तंजीम इंसाफ के कार्य और उपलब्धियां और जिन 
मुद्दों को तंजीम के बैनर तले सड़कों से सदन तक 
उठाने की जरूरत है। इन सब बातों की समीक्षा
 करने के लिए तीसरा राष्ट्रीय सम्मेलन 26, 27 और
 28 मार्च 2022 को लोयोला प्रशिक्षण केंद्र, रांची 
में होने जा रहा है। लोगों को इसकी जानकारी देते 
हुए इसे और अधिक शक्तिशाली, सक्रिय बनाने का 
प्रयास किया जा रहा है। इस सम्मेलन की तैयारी 
जोरों पर है। इसके लिए राष्ट्रीय सचिव इफ्तिखार 
महमूद लगातार झारखंड के विभिन्न जिलों का दौरा
 कर रहे हैं। उनका कहना है कि देश की एकता और
 अखंडता को बनाये रखने और फिरकापरस्त ताकतों
को उखाड फेंकने के लिए तंजीम काम करती है और
 करती रहेगी।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग