राजनीतिक रूप से एक होना ही है हमारी समस्याओं का समाधान है - कलीमुल हफ़ीज़


 

 

शाहीन बाग में मजलिस की चुनावी सभा से मजलिस दिल्ली के अध्यक्ष का संबोधन। 


प्रेस विज्ञप्ति 23 मार्च 2022

नई दिल्ली: आज़ादी के बाद से मुसलमानों 

को हाशिए पर डालने का काम शुरू कर दिया गया था। मुसलमानों का विकास और समृद्धि किसी भी राजनीतिक दल के एजेंडे में नहीं है। हमारी राजनीतिक एकता ही हमारी समस्याओं का समाधान है। ये विचार कलीमुल हफीज़, अध्यक्ष, ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-ए-मुस्लिमीन, दिल्ली ने व्यक्त किए। 


वह शाहीन बाग में एक चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे। कलीमुल हफीज़ ने कहा कि जिन क़ौमों ने खुद को एक राजनीतिक ताकत बना लिया वह आज एक बेहतर जीवन जी रही हैं। उसका एक उदाहरण जाटव समाज है जिसे कांशीराम और मायावती ने गरिमामय स्थान पर पहुंचाया हैI 

इसी तरह तेलंगाना और केरल में मुसलमानों की राजनीतिक सूझबूझ से उनकी स्थिति में सुधार हुआ है I तेलंगाना व केरल के मुसलमान अपने देशवासियों से किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं हैंI असम में भी अच्छे प्रयास हुए हैं I लेकिन अभी उत्तर भारत का मुसलमान सो रहा है और वह तथाकथित सेक्युलर पार्टियों के जाल में फसा हुआ है। जब तक हम अपने झंडे, अपने नेतृत्व और अपने मंच के नीचे इकट्ठा नहीं होंगे, तब तक हम रुसवा होते रहेंगे ।

कलीमुल हफ़ीज़ ने कहा कि बैरिस्टर असदुद्दीन ओवैसी का नेतृत्व, मजलिस का झंडा और मंच मौजूद है, मुसलमानों को चाहिए के वो इस मंच पर आजायें और अपने नेतृत्व को मजबूत करेंI 

सामाजिक और धर्मार्थ संगठन अस्थायी लाभ प्रदान कर सकते हैंI लेकिन राजनीतिक दल और गठबंधन सत्ता साझा करते हैं I अध्यक्ष ने कहा कि यह यूपी के नतीजों से साफ हो गया है कि सेक्युलर पार्टियों का अपना वोट भी उन्हें नहीं मिला जब कि मुसलमानों ने अपना वोट ईमानदारी से दिया। तथाकथित धर्मनिरपेक्ष दल मुसलमानों से वोट तो लेते हैं लेकिन उनकी समस्याओं का समाधान नहीं करतेI  अगर उन्होंने मुसलमानों को धोखा नहीं दिया होता तो उन्हें सत्ता से बेदखल नहीं होना पड़ता। 


मजलिस एक बेहतरीन विकल्प हैI हम ईमानदारी में विश्वास करते हैं I हम राजनीति को इबादत मानते हैं I सज्जनों, मजलिस का समर्थन करें और खुद को मज़बूत बनाएंI 

स्थानीय वक्ताओं के अलावा, संगठन सचिव अब्दुल गफ्फार सिद्दीकी, आईटी सेल प्रभारी मरूफ खान, सांस्कृतिक विंग के अध्यक्ष कासिम उस्मानी, मुहम्मद आरिफ सैफी और अन्य ने भी सभा को संबोधित किया। कार्यक्रम में अफ़ज़ल खान आफरीदी , बदरुद्दीन एडवोकेट, सरताज आलम सैफी, मोहम्मद उमर फारूक के अलावा बड़ी संख्या में स्थानीय लोगों ने भाग लियाI



अब्दुल गफ्फार सिद्दीकी

मीडिया प्रभारी मजलिस

8287421082

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग