हमें ताबेदारी नहीं अब हिस्सेदारी चाहिए :" रुखसार अहमद (मौजपुर वार्ड 40 से एआईएमआईएम के भावी उम्मीदवार)

 नई दिल्ली (अनवार अहमद नूर) दिल्ली में एमसीडी के चुनावों की धनक के साथ ही पार्टियों - दलों और उम्मीदवारों गतिविधियां तेज़ हो गई हैं। चुनाव कार्यालयों के उदघाटन एक के बाद एक हो रहे हैं। कांग्रेस, भाजपा और आम आदमी पार्टी जैसी बड़ी पार्टियों के अलावा कई अन्य दल भी पूरे जोश खरोश के साथ ताल ठोक रहे हैं। ऐसी एक पार्टी है एआईएमआईएम। जो दिल्ली के एमसीडी चुनाव में अपने उम्मीदवार उतार कर अपना रुतबा कायम कर रही है और इसके उम्मीदवार जीतने की पूरी आशा व्यक्त कर रहे हैं।



ऐसे ही एक उम्मीदवार हैं रुखसार अहमद जो पेशे से एडवोकेट हैं और अपनी जन सेवा तथा क्षेत्रीय मुद्दों के बल पर मौजपुर की वार्ड 40 ई सीट से एआईएमआईएम के उम्मीदवार के रूप में ताल ठोक रहे हैं। आज विधिवत चुनाव कार्यालय का उदघाटन और क्षेत्र में एक रैली निकाली गई जिसमें दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष कलीम उल हफ़ीज़ उनके साथ रहे। और क्षेत्र के लोगों को खुलकर बताया कि वह चुनाव मैदान में आ गए हैं इसलिए वोटो के तलबगार हैं।लोग भी उनकी जागरूकता रैली में एआईएमआईएम के निशान वाले पट्टे गले में डाल कर जोश के साथ भाग लेते हुए चुनाव निशान पतंग को वोट देने के नारे लगा रहे थे। बड़ी कहलाई जाने वाली पार्टियों के बीच एआईएमआईएम के रुखसार अहमद क्या कर पाएंगे इसके उत्तर में उन्होंने कहा कि सत्तारूढ़ केजरीवाल सरकार दिल्ली में शराब परोस रही है। पानी फ्री देने के बजाय शराब बांटी जा रही है जबकि लोग पानी खरीद कर पी रहे हैं। कांग्रेस को लोग देख और परख चुके हैं। झूठे आश्वासनों में अब दम नहीं है। हम जनता के बीच उन क्षेत्रीय मुद्दों को लेकर आए हैं जिनकी जनता को आवश्यकता है। पानी, शिक्षा यातायात के सुधार वाले हमारे प्रमुख मुद्दे हैं।

हमें ताबेदारी नहीं अब हिस्सेदारी चाहिए। हम दूसरों का सिर्फ़ वोट बैंक बन कर नहीं रह सकते। हमारे इलाकों में स्कूल कम पुलिस थाने अधिक खोले जा रहे हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग