बेताब समाचार बुलेटिन पर आपका स्वागत है आज 26 जनवरी 2022 है,

 बेताब समाचार बुलेटिन पर आपका स्वागत है आज 26 जनवरी 2022 है,योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा नौकरी से बर्खास्त किए गए गोरखपुर के बाल रोग विशेषज्ञ डॉ0 कफील खान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ आगामी चुनाव लड़ सकते हैं, खान ने कहा कि कई राजनीतिक दल उनके संपर्क में हैं,खान ने कहा कि मैंने अभी तक फैसला नहीं किया है, लेकिन मैं योगी आदित्यनाथ के खिलाफ चुनाव लड़ सकता हूं। कई दलों ने मुझसे संपर्क किया है,आजाद समाज पार्टी के अध्यक्ष चंद्रशेखर पहले ही घोषणा कर चुके हैं कि वह योगी आदित्यनाथ के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे,

डॉ0 खान ने कहा कि चंद्रशेखर दोस्त हैं, हम जेल में एक साथ थे। मैं उनसे बात करूंगा,एक जांच आयोग द्वारा उन्हें भ्रष्टाचार और लापरवाही के आरोपों से मुक्त करने के बावजूद, कफील खान को पिछले साल उनकी नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया था,

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 2021 में एनएसए के तहत आरोप हटाने के बाद खान को जेल से रिहा करने का आदेश दिया था,खबर रामपुर से है, समाजवादी पार्टी (सपा) के सांसद आजम खान उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव में अपनी उम्मीदवारी का नामांकन जेल से ही करेंगे, विभिन्न आपराधिक मामलों में सीतापुर जेल में बंद आजम को जेल से ही नामांकन करने की न्यायालय ने मंगलवार को इजाज़त दे दी,आजम को सपा ने रामपुर सदर सीट से विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार घोषित किया है, अदालत की अनुमति से आजम जेलर की मौजूदगी में नामांकन की प्रक्रिया को पूरा करेंगे,

प्राप्त जानकारी के मुताबिक जेल से आजम के नामांकन के लिए अदालत ने जरूरी प्रपत्र फैक्स कर दिये हैं,गौरतलब है कि रामपुर में दूसरे चरण में 14 फरवरी को मतदान होना है, इसके लिये नामांकन की अंतिम तारीख 28 जनवरी है, उनके खिलाफ विचाराधीन मामलों की अदालत में सुनवाई लंबित होने के कारण नामांकन से पहले आजम की जेल से बाहर आने की उम्मीद कम है, जिसके चलते अब वह नामांकन पत्र जेल से भरेंगे, उनके प्रस्तावक एवं समर्थक नामांकन पर्चे लेकर सीतापुर कारागार के लिए रवाना हो गए हैं, वहीं स्थानीय अदालत ने जेल से नामांकन की अनुमति का पत्र फैक्स द्वारा सीतापुर जेल भेज दिया है,आजम के खिलाफ करीब 100 मुकदमे चल रहे हैं,इनमें से दो मुकदमों को छोड़कर तकरीबन सभी में उनकी जमानत हो चुकी है, एक मुकदमा थाना अजीम नगर में शत्रु संपत्ति का है, जिसमें न्यायालय ने जमानत पर फैसले को सुरक्षित कर लिया है, वहीं लखनऊ के एक अन्य मामले में उनकी अभी जमानत होने की कार्रवाई जारी है,इन मामलों की सुनवाई के कारण आजम खान पिछले करीब 2 साल से सीतापुर जेल में बंद हैं, सपा ने उन्हें रामपुर सदर सीट से प्रत्याशी बनाया है। वह इस सीट से नौ बार विधायक रह चुके हैं,खबर उत्तर प्रदेश के लखनऊ के पारा क्षेत्र की है, शनिवार को एक युवक का रक्तरंजित शव मिलने से सनसनी फैल गयी,पुलिस सूत्रों ने बताया कि पतौरा गांव में आज सुबह एक शव बरामद किया गया, मृतक की शिनाख्त काकोरी क्षेत्र निवासी संदीप पाल के तौर पर की गयी है। मृतक के पेट में गोली लगने का निशान है जिससे प्रथम दृष्टया हत्या किये जाने की संभावना है, शव को पोस्टमार्टम के लिये भेजा गया है, डाग स्कावड और फोरेंसिक टीम ने मौके से साक्ष्य एकत्र किये है,पुलिस मामले की जांच कर रही है, खबर मेरठ की है,गत रविवार को परतापुर थानाक्षेत्र के काशी गांव में एक महिला का बोरे में बंद शव की आज बुधवार तक भी कोई शिनाख्त नहीं हो सकी। बता दे कि काशी गांव के तालाब में बोरे में महिला का शव पड़ा मिलने से सनसनी फैल गई थी, ग्रामीणों ने शव मिलने की सूचना पुलिस को दी जानकारी के बाद मौके पर पहुंची परतापुर पुलिस ने सबका पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था। उसके बाद से  पुलिस ग्रामीणों से महिला की पहचान कराने का प्रयास किया लेकिन सफलता नहीं मिली , खबर दिल्ली से है,स्पेशल सेल की टीम ने गणतंत्र दिवस से पहले एक अंतर्राज्जयीय हथियार तस्कर गिरोह का भंडाफोड़ कर दो हथियार तस्करों को गिरफ्तार किया है, गिरफ्तार हथियार तस्करों की पहचान धार मध्यप्रदेश निवासी 23 वर्षीय राहुल सिंह छाबड़ा और प्रयागराज यूपी निवासी रवि खान(40) के तौर पर हुआ है। उनके पास से 25 सेमी ऑटोमेटिक पिस्टल बरामद हुआ है, यह हथियार मध्य प्रदेश के धार से दिल्ली-  एनसीआर समेत हरियाणा,यूपी और राजस्थान में खपाए जा रहे थे, पुलिस इस गैंग से जुड़े हुए दो अन्य सदस्यों को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है, 

डीसीपी राजीव रंजन के अनुसार, स्पेशल सेल के एसीपी वेद प्रकाश की देखरेख में इंस्पेक्टर विवेकानंद पाठक और कुलदीप सिंह की टीम हथियार तस्करों को लेकर काम कर रही थी, बीते वर्ष ऐसे कई गैंग स्पेशल सेल द्वारा पकड़े गए थे, बीते अक्टूबर महीने में स्पेशल सेल की टीम ने राम शाहबाद और आकाश डावर को गिरफ्तार कर उनके पास से भारी मात्रा में अवैध हथियार बरामद किए थे, तब से ही स्पेशल सेल की टीम गिरोह के अन्य सदस्यों के बारे में पता करने में जुटी हुई थी, जांच में उन्हें पता चला कि इस गैंग से जुड़े हुए राहुल सिंह छाबड़ा और उसके साथी उत्तर प्रदेश और दिल्ली एनसीआर में अवैध हथियार की सप्लाई करते हैं, मध्य प्रदेश के खरगोन, बड़वानी और बुरहानपुर से वह हथियार लेकर आते हैं,उसके बाद हथियारों की सप्लाई करने वाले रवि खान को मुकुंदपुर इलाके से गिरफ्तार कर लिया गया, उसके पास 15 सेमी ऑटोमेटिक पिस्तौल बरामद हुए, उसके निशानदेही पर 16 जनवरी को मध्य प्रदेश के धार में छापेमारी राहुल सिंह को गिरफ्तार कर दिल्ली लाया गया, फिर 20 जनवरी को उसके निशानदेही मध्यप्रदेश में छापेमारी कर 10 अवैध हथियार बरामद किया,

पूछताछ में पता चला कि रवि खान यूपी के प्रयागराज का रहने वाला है और आर्थिक तंगी के चलते वह जब बदमाशों के संपर्क में आया और हथियारों की तस्करी करने लगा। 2003 में पहली बार उसे यूपी पुलिस ने गुंडा एक्ट में गिरफ्तार किया था, रवि खान खुद को बर्खास्त पुलिसवाला बताता था,उसके खिलाफ 15 आपराधिक मामले दर्ज मिले हैं जिनमें गुंडा एक्ट, एनडीपीएस एक्ट, हत्या प्रयास, आम्र्स एक्ट, गैंगस्टर एक्ट आदि शामिल हैं, 

गिरफ्तार किया गया राहुल सिंह धार के बढिय़ा गांव का रहने वाला है, उसने एलिमेंट्री एजुकेशन में डिप्लोमा किया हुआ है। जल्द पैसा कमाने के लिए वह अवैध हथियार के तस्करों के संपर्क में आया और उनसे अवैध हथियार लेकर आगे सप्लाई करने लगा, पुलिस को पता चला है कि राहुल सिंह के विदेश में कुछ लोगों से भी तार जुड़े हुए हैं। हवाला की गतिविधियों में भी उसके शामिल होने का पुलिस को शक है, अवैध चैनलों से उसे विदेश से काफी पैसे मिले हैं,

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

विधायक अताउर्रहमान के भाई नसीम उर्रहमान हज सफर पर रवाना

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र