ठेकेदार मजदूर यूनियन (एटक) के द्वारा टीटीपीएस के प्रशासनिक भवन के समक्ष गेट मीटिंग कर 27 नवंबर को सत्याग्रह करने का घोषणा

ठेकेदार मजदूर यूनियन (एटक) के द्वारा टीटीपीएस के प्रशासनिक भवन के समक्ष गेट मीटिंग कर 27 नवंबर को सत्याग्रह करने का घोषणा, यूनियन के महासचिव इफ्तेखार महमूद द्वारा किया गया। गेट मीटिंग का आयोजन चरणबद्ध आंदोलन के पहले चरण के रूप में संपन्न हुआ।


यूनियन उपाध्यक्ष बीरबल हांसदा के अध्यक्षता में आयोजित उपर्युक्त गेट मीटिंग को संबोधित करते हुए यूनियन महासचिव इफ्तेखार महमूद ने कहा कि टीटीपीएस प्रबंधन ने मजदूरों को आंदोलन करने के लिए मजबूर कर दिया है। पिछले 2 साल से विभिन्न तरह का बहाना बना बना कर अतिरिक्त 4 दिनों की मजदूरी के भुगतान को प्रबंधन रुके हुए हैं और 5 साल बीत जाने के बाद भी दूसरा वेतनमान का निर्धारण करने की दिशा में कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। श्री महमूद ने कहा कि दूसरा वेतनमान निर्धारित करने एवं गलत ढंग से रोक दिए गए अतिरिक्त 4 दिनों की मजदूरी  का भुगतान शुरू करने के लिए प्रबंधन का ध्यान आकृष्ट किया जाता रहा है, किंतु तेनुघाट थर्मल प्रबंधन औद्योगिक शांति बनाए रखते हुए मामलों का निष्पादन करने के पक्ष में कभी नहीं रही। उन्होंने कहा कि प्रबंधन का व्यवहार मजदूरों को उत्तेजित करते रहने वाला रहा है। श्री महमूद ने चरणबद्ध आंदोलन को समस्याओं के समाधान होने तक जारी रहने की घोषणा किया।

गेट मीटिंग में यूनियन के उप महासचिव समीर कुमार हलदार, उपाध्यक्ष गेंदों केवट, यूनियन के सचिव डेगलाल महतो तथा मुकुंद साव, संगठन सचिव सलीम अंसारी के अलावा बद्री मुंडा,देवानंद प्रजापति, सुरेश प्रजापति, राजेश करमाली, भोला केवट, चांदमुनि देवी, बीरालाल मांझी इत्यादि  सैकड़ों पुरुष एवं महिला श्रमिक उपस्थित थे।

फ़ोटो:-गेट मीटिंग को संबोधित करते हुए इफ्तेखार महमूद।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग