सेंट्रल वक्फ बोर्ड की तरह झारखंड स्टेट सुन्नी वक्फ बोर्ड अपने दायित्व का निर्वाह करने में विफल - इफ्तेखार महमूद

सेंट्रल वक्फ बोर्ड की तरह झारखंड स्टेट सुन्नी वक्फ बोर्ड अपने दायित्व का निर्वाह करने में विफल दिखलाई पड़ रही है। ऑल इंडिया तंजीम में इंसाफ के राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दिल्ली में चल रही बैठक को संबोधित करते हुए उक्त बातें तंजीम ए इंसाफ के राष्ट्रीय सचिव इफ्तिखार महमूद ने कहा।



महमूद ने बैठक में यह भी बतलाया कि झारखंड का वक्फ बोर्ड डेलीवेजेस के दो स्टाफ रख करके चलाया जा रहा है। बोर्ड के पास न तो पूरावक्ति स्टाफ है और न ही पूरावक्ति कार्यपालक पदाधिकारी।परिणामस्वरूप झारखंड के विभिन्न जिलों में अरबों रुपए की जो वक्फ संपत्तियां हैं उस पर से वक्फ बोर्ड का दखल खत्म हो गई है और आवाम के लिए दान में प्राप्त इन संपत्तियों का मोतवलियों(कस्टेडियन) द्वारा दुरुपयोग किया जा रहा है।धनबाद,जमशेदपुर,रांची,डाल्टेनगंज, साहेबगंज,गिरिडीह इत्यादि शहरो में करोड़ों करोड़ की जमीन , मकान और  कब्रीस्तान की भी जमीन पर अवैध दखल बन गया है।

     श्री महमूद ने कहा कि ऑल इंडिया तंजीम ए इंसाफ को राष्ट्रीय स्तर पर अभियान चलाकर इन संपत्तियों की सुरक्षा और सदुपयोग का व्यवस्था हेतु सरकार पर दबाव डालना होगा। श्री महमूद ने आकलन प्रस्तुत हुए कहा कि सिर्फ वक्फ (दान) संपत्तियों को यदि उपयोग में लाया जाय तो  अल्पसंख्यकों के शैक्षणिक, सामाजिक और आर्थिक उत्थान के लिए राष्ट्रीय स्तर पर कई योजनाओं का संचालन किया जा सकता है।

   बैठक की अध्यक्षता तंजीम के अध्यक्ष सैय्यद अजीज पासा ने किया तथा प्रतिवेदन महासचिव डॉ०एए खां ने प्रस्तुत किया। बैठक में देश के विभिन्न राज्यों के कार्य समिति के सदस्य भाग ले रहें हैं।

   फोटो- बैठक को सम्बोधित करते इफ्तेखार महमूद।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत