एडवोकेट सूरज कश्यप पत्रकार की अंतिम यात्रा में बहेड़ी के राजनीतिक, सामाजिक, लोगों के साथ ही बड़ी संख्या में नगरवासियों ने शामिल अंतिम विदाई दी।

 बेताब समाचार एक्सप्रेस के लिए बहेड़ी से अनीता देवी की रिपोर्ट

पत्रकार सूरज कश्यप के अंतिम संस्कार में राजनीतिक, सामाजिक, लोगों के साथ ही बड़ी संख्या में नगरवासी शामिल हुए।

बरेली, तहसील बहेड़ी कोतवाली क्षेत्र के रहने वाले सूरज कश्यप पत्रकार ने कल अपने घर के कमरे में फांसी लगाकर जान दे दी थी।सूरज कश्यप पेशे से वकील थे और बहरी में प्रैक्टिस करते थे इसके साथ ही बहेड़ी में अच्छे पत्रकारों में उनकी शुमार होती थी पत्रकारिता के क्षेत्र में भी सूरज कश्यप में एक अलग छाप छोड़ी थी जिसके कारण राजनीतिक सामाजिक और नगर में सम्मान के साथ सूरज कश्यप का नाम लिया जाता था। प्राप्त जानकारी के मुताबिक सूरज कश्यप ने करीब 8:00 बजे अपने घर में फांसी लगा ली ।


आज लोगों में इस तरह की चर्चा थी की घरेलू कलेश के चलते आत्महत्या जैसा आत्मघाती कदम उठाया। उनको फांसी पर लटका दे परिवार वालों ने उनको नीचे उतारा, सीधे डॉक्टर के पास लेकर राजा हॉस्पिटल जहां रात्रि 9:30 बजे सूरज कश्यप को मृत घोषित कर दिया गया।सूरज कश्यप मधुर व्यवहार के कारण काफी लोकप्रिय थे और अपना पोर्टल वी ई 24 के नाम से चलाते थे। निष्पक्ष पत्रकारिता में सूरज कश्यप ने एक अलग पहचान बनाई थी।सूरज कश्यप द्वारा फांसी लगाई जाने की घटना जंगल में आग की तरह कस्बे में फैल गई थी, मौके पर पुलिस ने पहुंचकर शव को अपने कब्जे में लेकर पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए बरेली भेज दिया। आज पोस्टमार्टम करके सूरज कश्यप का शव उनके निवास स्थान बहेड़ी लाया गया ,जहां पर सैकड़ों की संख्या में लोगों ने उनके अंतिम दर्शन किए और उनके अंतिम संस्कार में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए। आज एडवोकेट सूरज कश्यप पत्रकार हमारे बीच नहीं है परंतु उनके मधुर व्यवहार को हमेशा याद किया जाएगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग