मैं देश भर के युवाओं से ‘देश के मेंटर्स’ कार्यक्रम का हिस्सा बनने का आग्रह करता हूं- सोनू सूद*

 नई दिल्ली, 27 अगस्त, 2021दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने प्रसिद्ध समाजसेवी एवं फिल्म अभिनेता सोनू सूद को अपने ‘देश के मेंटर’ कार्यक्रम का ब्रांड एंबेसडर बनाया है। ‘देश के मेंटर’ कार्यक्रम के जरिए दिल्ली के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों को ‘मेंटर’ खोजने में मदद मिलेगी, जो उनकी प्रतिभा को उभारने में मदद करेंगे। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोनू सूद को ब्रांड एंबेसडर बनने पर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि हमने दिल्ली के सरकारी स्कूलों को बदलने के लिए बहुत मेहनत की है और अब हम शिक्षा को जन क्रांति बनाना चाहते हैं। जब देश भर के युवा हमारी शिक्षा क्रांति से जुड़ेंगे, तो भारत को वैश्विक लीडर बनने से कोई नहीं रोक पाएगा। इस दौरान सोनू सूद ने कहा कि सभी बच्चों के लिए उच्च गुणवत्ता की शिक्षा देश के उज्जवल भविष्य की कुंजी है। हमें एक साथ आकर राष्ट्र निर्माण में अपने हिस्से का योगदान देने की जरूरत है। मैं देश भर के युवाओं से ‘देश के मेंटर्स’ कार्यक्रम का हिस्सा बनने का आग्रह करता हूं। 


मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आज समाजसेवी एवं फिल्म अभिनेता सोनू सूद से मुलाकात के दौरान दिल्ली सरकार की ‘देश के मेंटर्स’ नामक नई पहल पर चर्चा की। सीएम अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली सरकार ‘देश के मेंटर्स’ कार्यक्रम को लॉन्च करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। इस कार्यक्रम के जरिए दिल्ली सरकार के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों को एक ‘मेंटर’ खोजने में मदद मिलेगी, जो बच्चों में उनकी क्षमता को उभारने में मदद करेंगे। इस कार्यक्रम का हिस्सा बनने के लिए अपना नाम दर्ज कराने वाले मेंटर्स द्वारा बच्चों को उनके करियर से संबंधित सवालों के जवाब दिया जाएंगे। दिल्ली सरकार को अब सोनू सूद के रूप में ‘देश का मेंटर’ मिल गया है और वे इस कार्यक्रम के ब्रांड एंबेसडर बनने के लिए सहमत हो गए हैं। ‘देश के मेंटर’ पहल का प्रमुख चेहरा बनने के उपरांत सोनू सूद ने देश भर के लोगों से अपील की है कि वे आगे आएं और बच्चों की शिक्षा का समर्थन करें और देश को एक उज्जवल कल की ओर ले जाएं।

कोविड-19 महामारी के दौरान सोनू सूद ने उन सभी लोगों की मदद के लिए आगे कदम बढ़ाया, जो लोग उनके पास पहुंचे। सोनू सूद को उनके द्वारा किए गए इन मानवीय कार्यों के लिए देश भर में व्यापक रूप से एक पहचान मिली। उनका सूद चौरिटी फाउंडेशन, चाहे वह वित्तीय सहायता के माध्यम से हो या छात्रों को पेशेवर कैरियर के लिए तैयार करने के अपने प्रयासों के माध्यम से हो, वह आज हजारों योग्य छात्रों को अपने शैक्षिक और पेशेवर लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद कर रहा है। जिन बच्चों ने घातक महामारी के कारण अपने माता-पिता या अभिभावक को खो दिया है, सोनू सूद के फाउंडेशन ने उन बच्चों की निरंतर स्कूली शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए उनको वित्तीय सहायता देने को भी प्राथमिकता दी है। 

शिक्षा के क्षेत्र में दिल्ली सरकार के काम की प्रशंसा करते हुए सोनू सूद ने कहा, “मैं पिछले कुछ वर्षों में दिल्ली के सरकारी स्कूलों में हुए ऐतिहासिक बदलाव से बहुत प्रभावित हूं। सभी बच्चों के लिए उच्च गुणवत्ता वाली शिक्षा, चाहे वह अमीर हो या गरीब, देश के उज्जवल भविष्य की कुंजी है। हमें एक साथ आने और राष्ट्र निर्माण के लिए अपने हिस्से का काम करने की जरूरत है। मैं भारत के युवाओं से ‘देश के मेंटर्स’ कार्यक्रम का हिस्सा बनने का आग्रह करता हूं।’’ सोनू सूद बच्चों की शिक्षा के प्रति बेहद उत्साही हैं और ‘हर हाथ में किताब’ में विश्वास करते हैं। इस दौरान अभिनेता सोनू सूद के साथ उनके दोस्त करण गिल्होत्रा भी थे। करण गिल्होत्रा भी एक नामी समाजसेवी और प्लाक्षा विश्वविद्यालय के संस्थापक हैं।

देश के मेंटर’ पहल एक ऐसा कार्यक्रम है, जहां मेंटर्स छात्रों का मार्गदर्शन करने के लिए हर हफ्ते 10 मिनट का समय निकालेंगे। इस मौके पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, ‘‘हमने दिल्ली के सरकारी स्कूलों को बदलने के लिए बहुत मेहनत की है। अब हम शिक्षा को जन क्रांति बनाना चाहते हैं। जब देश भर के युवा हमारी शिक्षा क्रांति से जुड़ेंगे, तो भारत को वैश्विक लीडर बनने से कोई नहीं रोक पाएगा। हमें सोनू सूद के साथ जुड़कर खुशी हो रही है, जिन्होंने देश भर के लाखों युवाओं को राष्ट्र के लिए अपनी निःस्वार्थ सेवाओं से प्रेरित किया है।”

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग