संघ प्रमुख मोहन भागवत के छोटे भाई डॉ अनन्त भागवत राष्ट्रीय संरक्षक भारतीय व्यापार मण्डल के गाँव फुलत आगमन पर मदरसा जामिया ईमाम वली उल्लाह में प्रसिद्ध इस्लामी स्कॉलर हजऱत मौलाना क़लीम सिद्दीकी ने स्वागत किया

 खतौली। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत के छोटे भाई डॉ अनन्त भागवत राष्ट्रीय संरक्षक भारतीय व्यापार मण्डल के गाँव फुलत आगमन पर मदरसा जामिया ईमाम वली उल्लाह में प्रसिद्ध इस्लामी स्कॉलर हजऱत मौलाना क़लीम सिद्दीकी ने स्वागत किया। स्वागत कार्यक्रम में डॉ अनन्त भागवत ने ऐतिहासिक गांव फुलत आने को अपना सौभाग्य बताते हुए कहा कि उनके द्वारा संचालित एनजीओ ग्लोबल स्ट्रैटेजिक पॉलिसी फाउंडेशन द्वारा 6 सितम्बर को मुम्बई में सभी धर्मों के बीच समन्वय बनाकर भाईचारा क़ायम करने के उद्देश्य से एक बड़ा कार्यक्रम का आयोजन कराया जा रहा है।कार्यक्रम में सभी धर्मों के धर्माचार्यों के बीच संवाद स्थापित करा एक दूसरे के प्रति गलतफहमियों को दूर करके आपसी भाईचारा क़ायम करने का प्रयास किया जायेगा।


डॉ अनन्त भागवत ने हजऱत मौलाना क़लीम सिद्दीकी को 6 सितम्बर को मुम्बई आने का न्यौता दिया। न्यौते को स्वीकार कर हजऱत मौलाना क़लीम सिद्दीकी ने गांव फुलत के इतिहास पर प्रकाश डालते हुए बताया कि मुग़ल बादशाह सिकन्दर लोधी के गुरु ने कई सदियों पहले एक पेड़ के नीचे बैठकर इल्म का चश्मा गांव फुलत से बहने की दुआ की थी। तभी से गांव फुलत शिक्षा के क्षेत्र में देश और दुनिया में  पहचाना जाता है। 1857 से पहले 1208 में फुलत निवासी प्रसिद्ध इस्लामी स्कॉलर शाह अब्दुल अज़ीज़ साहब ने दिल्ली की एक मस्जिद से देश को आज़ाद कराने के लिये अंग्रेजों के खिलाफ जंग लडऩे का फतवा जारी किया था। इससे क्षुब्ध अंग्रेजो  ने दिल्ली की इस मस्जिद को ज़मींदोज़ करा दिया था। वर्ष 1929 में गांव फुलत आये राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने यहाँ की मिट्टी को नमन कर सबसे पहले देश को आज़ादी की राह दिखाने की सराहना की थी। महात्मा गाँधी का उपरोक्त कथन दस्तावेज़ के रूप में गांव फुलत में आज भी मौजूद है। हजऱत मौलाना क़लीम सिद्दीकी ने कहा कि अनेकता में एकता की जैसी मिसाल भारत देश में  मिलती है, ऐसी मिसाल दुनिया के और किसी देश में  नही मिलती है। डॉ अनन्त भागवत का स्वागत करने वालों में भारतीय व्यापार मण्डल के राष्ट्रीय अध्यक्ष अंकुर सिंघल, हाफिज़ इदरीस कुरैशी, नगर अध्यक्ष रवि ग्रोवर, ऋषभ जैन आदि ग्रामीण शामिल रहे। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग