ग़ज़ल :-


मैं तुम्हें दिल में बसाना चाहता हूँ ,

मैं तुम्हें अपना बनाना चाहता हूँ ।



प्यार बचपन से तुम्हें मैं कर रहा हूँ ,

आज ये तुमको बताना चाहता हूँ ।


बात मरने की है तो मर जाऊँगा पर ,

मौत से आँखें मिलाना चाहता हूँ ।



मैं नहीं भूला तुम्हें तो आज तक ,

बस यही तुम को बताना चाहता हूँ ।


तुम रही हो आज तक दिल में हमारे ,

बस यही नग़मा सुनाना  चाहता हूँ ।


तुम मुझे ही यार सब कुछ मानती थी ,

याद वो दुनिया दिलाना चाहता हूँ 



कौन ज़िन्दा है यहाँ सब को पता है ,

बोझ घर का मैं उठाना चाहता हूँ ।


सुखवीर चौधरी 

मथुरा (उत्तर प्रदेश )

मो-9837219226

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरधना के मोहल्ला कुम्हारान में खंभे में उतरे करंट से एक 11 वर्षीय बच्चे की मौत,नगर वासियों में आक्रोश

जिला गाजियाबाद के प्रसिद्ध वकील सुरेंद्र कुमार एडवोकेट ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री को देश में समता, समानता और स्वतंत्रता पर आधारित भारतवासियों के मूल अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए लिखा पत्र

ज़िला पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव में वार्ड नंबर 16 से श्रीमती जसविंदर कौर की शानदार जीत