बायो डीकंपोजर का उपयोग कर पराली जलाने का समाधान निकालने वाली दिल्ली सरकार देश की पहली राज्य सरकार है- इमरान हुसैन*

नई दिल्ली, 24 अगस्त, 2021 दिल्ली के खाद्य और आपूर्ति मंत्री इमरान हुसैन ने आज दिल्ली के जामिया हमदर्द परिसर में वृक्षारोपण अभियान के तहत अमलतास का पौधा लगाया। वृक्षारोपण अभियान का आयोजन जामिया हमदर्द विश्वविद्यालय और रोटरी क्लब साउथ, दिल्ली के सामूहिक सहयोग से किया गया। 

इस मौके पर इमरान हुसैन ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली सरकार वायु प्रदूषण के खिलाफ सघन अभियान चला रही है। दिल्ली सरकार ने जलवायु परिवर्तन से होने वाले खतरे को देखते हुए दिल्ली में वायु प्रदूषण को रोकने के लिए वृक्ष प्रत्यारोपण नीति, एंटी- डस्ट प्रदूषण अभियान, इलेक्ट्रिक वाहन नीति, रेड लाइट ऑन-गाडी ऑफ जैसे कई कदम उठाए हैं। दिल्ली सरकार जैविक डी-कंपोजर का प्रयोग करके पराली गलाने के उपायों पर प्रयोग करने वाली इस देश की पहली राज्य सरकार है।



खाद्य मंत्री इमरान हुसैन ने वृक्षारोपण अभियान में सक्रिय भागीदारी के लिए रोटरी क्लब के स्वयंसेवकों और जामिया हमदर्द के स्टाफ सदस्यों के सार्थक प्रयासों की सराहना की। कॉलेज के छात्र-छात्राओं की सक्रिय भूमिका की प्रशंसा करते हुए कहा कि सभी लोगों के सामूहिक प्रयास से दिल्ली में वायु प्रदूषण का स्तर लगातार कम होता जा रहा है। उन्होने वृक्षारोपण के पश्चात पौधों के उचित रखरखाव की आवश्यकता पर भी जोर देते हुए कहा कि पेड़ लगाने वाले लोगों को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। उन्होंने छात्रों और रोटरी क्लब स्वयंसेवकों से दिल्ली के नागरिकों को हरा-भरा, स्वस्थ और प्रदूषण मुक्त वातावरण प्रदान करने के लिए दिल्ली में विभिन्न स्थानों पर इसी तरह वृक्षारोपण कार्यक्रम चलाने की अपील की।

यूनिवर्सिटी परिसर में आयोजित वृक्षारोपण कार्यक्रम में जामिया हमदर्द के कुलपति अफशार आलम, कुलाधिपति हामिद अहमद, रोटरी क्लब के अनिल अग्रवाल सहित संकाय सदस्य और कई छात्र  सम्मलित हुए ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

सिविल डिफेंस में काम करने वाली राबिया की हत्या करके हत्यारा हरियाणा से दिल्ली के कालंदिकुंज थाने में आकर क्यों करता है सिरेंडर, खड़े हो रहे हैं कुछ सवाल?

लापता दो आदिवासी युवकों की संदिग्ध मौत की तुरंत जांच की मांग