क्रीमी-लेयर पर पुनर्विचार याचिका हो गई होती तो बाबरी-मस्जिद का खून नही होता*



 *क्रीमी-लेयर पर पुनर्विचार याचिका हो गई 
होती तो बाबरी-मस्जिद का खून नही होता*


*अफसोस-अफसोस अफसोस:---काश 16/11/1992 इन्दिरा साहनी xभारत सरकार (((मंडल आयोग बनाम कमंडल आयोग))) के फैसले मे यदि 3743 OBC जाति वाले आज के ढोंगी पापी पाखंडी OBC नेता यदि क्रिमी-लेयर पर पुनर्विचार याचिका कर दिये होते तो इस 50% आरक्षण के नाटक से पर्दा उसी समय उठ गया होता !!!*

*मगर 3743 OBC के बनावटी घटिया नेता लोग क्रीमी-लेयर पर पुनर्विचार याचिका न करके आज 50% आरक्षण को खुद प्रभावित कर दिये है वरना आज इन्दिरा साहनी बनाम भारत सरकार का बनावटी SYSTEM गले कि हड्डी बनकर नही चुभता??*

*अगर क्रिमी-लेयर पर पुनर्विचार याचिका REVIWE PETITION उसी समय हो गई होती तो 1992 से ही देश में SC ST भाईयों कि तरह 3743 OBC-कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले भाइयों को 27% राजनैतिक आरक्षण मिल गया होता*

*543 लोकसभा कि सीट मे जिस तरह 133 साँसद SC ST भाईयो के (((85 SC 48 ST))) है उसी तरह 543 मे 27% मंडल आयोग के हिसाब से इन 3743 OBC शूद्र भाईयों को भी राजनैतिक आरक्षण मिल गया होता तो 147 साँसद OBC के होते••••133 SC ST और 147 OBC कुल मिलाकर 133+147=280 साँसद MUSLIM SC ST OBC शूद्र कलाकार जाति पेशेवर जाति के होते "और-और-और" शूद्रराज कि स्थापना 1992 मे ही हो गयी होती*

*27% मंडल आयोग कि सुविधा को 3743 OBC को देशहित-जनहित मे राजनैतिक आरक्षण के तौर पर लागू कर दिया गया होता तो तो तो:--बहुजन हसरत पार्टी को तीन-तीन संस्थाओ के माध्यम से इलाहाबाद हाईकोर्ट व नई दिल्ली सुप्रीम कोर्ट कि अदालत मे 7/7 P.I.L और SLP (C) दाखिल करके लड़ाई न लड़नी पड़ती तथा इन "बहुजन" व "कामगार-मजदूर-श्रमिक" को महान नया नाम "कलाकार जाति पेशेवर जाति" नही देना पड़ता और नाहि SC ST भाईयो कि तरह "सेवा और खिदमत" के नाम पर राजनैतिक आरक्षण देने हेतु लड़ाई ही लड़नी पड़ती।।*

*REVIWE PETITION हो गई होती तो देश मे बाबरी-मस्जिद का खून कदापि न होता और नाहि इन 2.50% वाले विदेशी पंडित पुजारी लोग SC ST OBC भाईयों के "शूद्र-शूद्र-शूद्र" नाम को हटाकर "हिन्दू"  नही दे पाते और नाहि वफादार मुस्लिम भाईयों के प्रति आज नफरत फैलाने में कामयाब हो पाते* 

*REVIWE PETITION न होने के कारण ही ये 2.50% वाले विदेशी-आर्य पुजारी पुजारी लोग MUSLIM OBC SC ST भाईयों को लड़ाने मे कामयाब हो रहे है वरना ये "'शम्भूख-ऋषि"' कि हत्या करने वाले अपराधी के वंशज व "मनु" के नाजायज औलादो के औलाद आज इन्ही MUSLIM SC ST OBC शूद्र "कलाकार जाति पेशेवर जाति" वाले लोगो के आँगन में झाड़ू मारने व संडास साफ करने मे अपना सौभाग्य समझते---बुरा न मानो तर्क करो गलत लगे तो देशहित-जनहित मे माफ करो*

*16/11/1992 के क्रीमी-लेयर वाले बिन्दु पर किसी OBC शूद्र भाई कि नजर न पड़े तथा कोई भी OBC शूद्र भाई क्रीमी-लेयर पर पुनर्विचार याचिका न करने पावे इसीलिये क्रीमी-लेयर से ध्यान हटाने के लिए जिनके हक-अधिकार के लिए मंडल आयोग लागू हुआ था उन्ही को कार-सेवक बनाकर 1949 से बंद बाबरी-मस्जिद गिरवा दिया और 3743 OBC शूद्र कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले लोगो का राजनैतिक आरक्षण छीनकर ये 2-50% विदेशी-आर्य वाले अल्पसंख्यक पंडित पुजारी खुद राज कर रहे है*

*वाह रे वाह:--ये 2-50% वाले अल्पसंख्यक विदेशी-आर्य पंडित पुजारी पाखंडी लोग वफादार मुस्लिम भाईयो को "कटुवा-कटमुल्ला-आतंकवादी-गद्दार-घुसपैठ---कहकर बदनाम करते है व----SC ST OBC को अपने फायदे के लिऐ जबरजस्ती "'हिन्दू"' बनाकर उनको "सछूत-अछूत-दानव-राक्षस" आदि कहकर पुकारते है*

*गजब का खेल खेलकर SC ST OBC "बुद्ध" के "शूद्र" को "हिन्दू-हिन्दू" नाम देकर धर्म-आस्था-मजहब के नाम पर मुस्लिम-कौम से लड़ाकर यह पाखंडी पंडित पुजारी अल्पसंख्यक होकर हर क्षेत्र में हुकूमत करते नजर आ रहे है और बहुसंख्यक MUSLIM SC ST OBC शूद्र "कलाकार जाति पेशेवर जाति" वाले लोगो को रखैल और गुलाम समझ रहे है*

*अगर 16/11/1992 मंडल आयोग के क्रीमी-लेयर पर REVIWE PETITION हो गई होती तो सुप्रीम कोर्ट आदि में ये 2.50% वाले एक ही समुदाय विशेष के जजों कि नियुक्ती करने वाली तथा भारतीय संविधान को "मनु" संविधान बना रही कॉलेजियम SYSTEM कभी लागू नही होती....और नाहि MUSLIM OBC SC ST प्रमोशन में आरक्षण समाप्त करने का तथा मनमानी खेल खेलने का मौका इन मनुवादी-रामवादी  किस्म के जजों को नही मिलता परन्तु आज कोलजियम-सिस्टम व काँग्रेसी EVM देवता यंत्र के सहारे ये रामवादी-मनुवादी लोग भीमवादी-हसरत मोहानीवादी सरकार नही बनने दे रहे है*

*धिक्कार-धिक्कार-धिक्कार:--क्रिमी-लेयर पर सिर्फ एक पुनर्विचार याचिका REVIWE PETITION न होने के कारण ही देश के 50%  OBC-कलाकार जाति-पेशेवर जाति वाले शूद्र भाईयों को राजनैतिक आरक्षण से हाँथ धोना पड़ रहा है ये 3743 OBC शूद्र कलाकार जाति पेशेवर जाति वाले भाई आज राजनैतिक क्षेत्र में नपुंसक बन बैठे है इसका जिम्मेदार कौन सी पार्टी है*

*बहुजन हसरत पार्टी माननीय राजकुमार एडवोकेट संयोजक संविधान बचाओ टृस्ट सहारनपुर, उत्तर प्रदेश से अपील व गुजारिश करती है कि क्या "क्रिमी-लेयर" पर  पुनर्विचार याचिका REVIWE PETITION को कंधा बनाकर बनावटी 50% आरक्षण के सीमा को समाप्त करने का खेल नही खेला जा सकता है क्या "कोलजियम-सिस्टम" वाले ((जज)) के प्लान को रोकने का कुछ उपाय बना सकते हो*

*स्पेशन नोट:---बहुजन हसरत पार्टी द्वारा 28/05/2019 से 04/04/2021 तक मोदी वाली भारत सरकार को 1200 रजिस्ट्री/स्पीड पोस्ट भेजकर अनेको माँग करी है भारत सरकार ने बहुजन हसरत पार्टी के 1200 SPEED POST व रजिस्ट्री के जवाब में टोटल करीब 800 जवाब बहुजन हसरत पार्टी BHP को मोदी सरकार ने भेजा है भारत सरकार के विधि और न्याय विभाग द्वारा दिनांक 24/06/2021 को जल्दी ही एक नोटिस भेजा है उस लेटर-नोटिस को कृपया गंभीरता से देखे*



*मुहम्मद मैराज शेख*

*संस्थापक राष्ट्रीय अध्यक्ष बहुजन हसरत पार्टी BHP/बहपा--9819316944*

*कलाकार जाति जिंदाबाद -पेशेवर जाति जिंदाबाद*

*शूद्र समाज जिन्दाबाद-जिन्दाबाद*

*भीमवादी समाज जिन्दाबाद-जिन्दाबाद*

*हसरत मोहानीवादी सरकार जिन्दाबाद-जिन्दाबाद*

*जय भीम जय हसरत मोहानी*

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बरेली के बहेड़ी थाने में लेडी कांस्‍टेबल के चक्‍कर में पुलिस वालों में चलीं गोलियां, थानेदार समेत पांच पर गिरी गाज

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

लोनी नगर पालिका परिषद लोनी का विस्तार कर 11 गांव और उनकी कॉलोनियों को शामिल कर किया गया