अखिलेश यादव का जन्म दिन हर्षोल्लास के साथ मनाया गया

सरधना ( मेरठ)


29 जून दिन मंगलवार को समाजवादी पार्टी के कार्यालय जिला मेरठ में एक मीटिंग आहूत की गई। जिसमें  वर्तमान परिस्थितियों, व आगामी 1 जुलाई को मा. राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव समाजवादी पार्टी के जन्म दिवस को हर्ष व हुल्लाश के साथ पर्व के रूप में मनाने का फैसला लिया गया। अध्यक्षता श्री राजपाल सिंह ज़िला अध्यक्ष मेरठ सपा ने कि जिन्होंने कहा कि भाजपा सरकार लगातार संविधान को कुचलने का काम कर रही है । उनके अत्याचार से प्रदेश की जनता तंग आ चुकी है ओर आगामी विधानसभा चुनाव 2022 में जनता इनको सबक सिखाने का काम करेगी। ओर 1 जुलाई को पूरे जिले में बड़े उत्साह से राष्ट्रीय अध्यक्ष जी का जन्म दिवस मनाया जाएगा। पूर्व राज्य मंत्री श्री प्रभु दयाल बाल्मीकि जी ने कहा कि वर्तमान सरकार हर जगह फेल साबित हुई है, चाहे व कोरोना महामारी में लोगो को राहत पहुंचाने का काम हो या युवाओं को रोज़गार  देने का वादा हो, युवा वर्ग इस बार भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने का काम करेगा, सपा का हर कार्यकर्ता अखिलेश यादव जी के जन्म दिवस को धूम धाम से मनाएगा। शाहवेज अंसारी युवा सपा कार्यकर्ता ने कहा कि किसानो की आय दुगनी करने के वादे पर जो सरकार उत्तर प्रदेश में अाई थी उन्हे आज मरते हुए किसान कहीं नजर नहीं आ रहे, पिछ्ले 7 माह से आंदोलन कर रहे किसानो की समस्या जस की तस है बुनकरों की फ्लैट योजना को ख़तम किया जा रहा है, गरीब ओर गरीब होता जा रहा है। कोरोना काल में लाखो लोगो ने दम तोड़ दिया लेकिन सरकार चुनाव में व्यस्त रही, जिससे उनकी कथनी और करनी में फर्क साफ नजर आने लगा है। युवा, बेरोजगार, किसान, बुनकर,  मजदूर व हर व्यापारी वर्ग मौजूदा हालत में परेशान है ओर यही लोग आगामी चुनाव में मा राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी को पुनः प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाने का काम करेंगे। सभी साथियों ने 1 जुलाई को सपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जी के जन्म दिवस को धूम धाम से मनाने का काम करेंगे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बरेली के बहेड़ी थाने में लेडी कांस्‍टेबल के चक्‍कर में पुलिस वालों में चलीं गोलियां, थानेदार समेत पांच पर गिरी गाज

पीलीभीत के थाना जहानाबाद की शाही पुलिस चौकी के पास हुआ हादसा तेज़ रफ्तार ट्रक ने इको को मारी टक्कर दो व्यक्तियों की मौके पर हुई मौत, एक व्यक्ति घायल|

लोनी नगर पालिका परिषद लोनी का विस्तार कर 11 गांव और उनकी कॉलोनियों को शामिल कर किया गया